सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को क्लिनचीट कहना गलत इंटरप्रिटेशन: शैलेश नितिन त्रिवेदी

रायपुर। मुख्यमंत्री रमन सिंह और भाजपा नेताओं द्वारा सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को क्लिनचीट कहना माननीय उच्चतम न्यायालय के फैसले का गलत इंटरप्रिटेशन है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि माननीय न्यायालय ने अभी तो यह सच खुलना बाकी है कि विदेशों में खाता खोलने वाला अभिषाक सिंह कौन है? प्रत्यक्षं किम् प्रमाणम। पनामा पेपर्स में दर्ज है कि रमन सिंह के कवर्धा के पते पर खाता खोला गया। खाता खोलने वाला अभिषाक सिंह कौन है यह सच भी बताया जाये।

सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को अगस्ता हेलिकाप्टर घोटाले में क्लिनचीट साबित करने की जद्दोजहद में ट्वीट करने और बयान देने की जो मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके सहयोगी गलत बयानी कर रहे है। पनामा पेपर्स से पहले उजागर हुये अभिशेक सिंह के विदेषी निवेष के मामले की जांच होनी चाहिये। आई.सी.आई.जे. की वेबसाइट में ‘‘म.नं. 05, विंध्यवासिनी वार्ड, रायपुर-नांदगांव मार्ग कवर्धा, जिला कबीरधाम’’ दिया गया है। अभिषेक सिंह के पिता रमन सिंह का पता विधानसभा निर्वाचन के समय उनके शपथ पत्र में ‘‘म.नं. 05, रायपुर-नांदगांव मार्ग कवर्धा, जिला कबीरधाम’’ दिया गया है। अभिषेक सिंह के द्वारा अपना नामांकन में पता फार्म में यही भरा गया है। यही पता आई.सी.आई.जे. द्वारा उजागर लिंक्स में भी है। इन सारे महत्वपूर्ण तथ्यों के बावजूद भी केन्द्र सरकार रमन सिंह और अभिषेक सिंह के कालेधन के निवेश की जांच क्यों नहीं करवा रही? अगस्ता मामले में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का पूरा अध्ययन करके इस मामले में की रणनीति तय की जायेगी। लेकिन सर्वोच्च न्यायालय में जो दस्तावेज जो राज्य की भाजपा सरकार जो प्रस्तुत की है उसमें दो बड़े तथ्य निकलकर आये है अगस्ता वेस्टलेंड हेलीकाप्टर के मामले में जो तीन कंपनियां कंपीट कर रही थी। पहला अगस्ता वेस्टलेंड, दूसरा कार्पाेशियन और तीसरा ओशियन एयर इन तीनो कंपनियों को एक ही व्यक्ति की वी.क्रिशनन भी वीप्रेंजेट कर रहा था। अगर किसी मामले में फर्मो में आपस में काम्पीडिशन हो रहा है और तीनों फर्मो को एक ही व्यक्ति प्रतिनिधित्व कर रहा है। तो मामला आईने की तरह साफ है। दूसरी बात राज्य सरकार के द्वारा प्राप्त किये गये दस्तावेज से यह भी बात निकल के आयी है की अगस्ता मामले में हेलीकाप्टर की वास्तविक कीमत के उपर 1.3 मीलियन डाॅलर का पैमेंट किया गया। यह बात राज्य सरकार ने स्वंय न्यायालय में लिखित में स्वीकार की है इस मामले में पूरे फैसले दिखा जायेगा। सारे दस्तावेज निकाले जायेगे और अगस्ता वेंस्टलेंड कि लड़ाई हम आगे लड़ेगे इस मुकदमें में यह स्पष्ट हो गया है कि जनता के पैसो की अगर लूट हुयी है, अगर जनता के पैसो को गलत तरीके से दूसरो को दिया गया है तो वो पैसा कहा गया इसकी जांच के लिये कांग्रेस पार्टी अपने लड़ाई को सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश के मुताबिक लड़ेगी। सर्वोच्च न्यायालय ने सिर्फ एसआईटी गठित नहीं करने की बात की, पूरा फैसला हम अध्ययन करेंगे और पूरे फैसले को अध्ययन करने के बाद न्यायालय के निर्देश के मुताबिक इस मामले में लड़ाई जारी रहेगी। ये बात सर्वोच्च न्यायालय का पूरा निर्णय आ जाये इस मामले में ईडी में शिकायत होगी कहां क्या किया जा सकता है कांग्रेस सारे तथ्यों का एक्सप्लोर करेगी और इस मामले में लड़ाई लड़ेगी। अगस्ता की लड़ाई कांग्रेस के लिये छत्तीसगढ़ की जनता के खजाने की पैसो की लड़ाई है, गरीब जनता की कमाई के पैसो की लड़ाई है इस लड़ाई को कांग्रेस पार्टी लड़ेगी।

 

error: Content is protected !!