मनरेगा के लंबित भुगतान को लेकर सदन में जमकर हंगामा, विपक्ष ने किया वाकआउट

रायपुर|छत्तीसगढ़ विधानसभा का बजट सत्र का तीसरा दिन हंगामे के साथ शुरू हुआ। नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने मुख्यमंत्री रमन सिंह पर सदन की अवमानना का आरोप लगाया है। टीएस सिंहदेव सदन को मुख्यमंत्री रमन सिंह के खिलाफ विशेषाधिकार हनन की सूचना दी।

टीएस सिंहदेव ने बताया कि छत्तीसगढ़ विधानसभा सत्र की अधिसूचना 9 जनवरी को जारी होने के बाद 4 फरवरी को 14वें वित्त आयोग की राशि वापस करने का नीतिगत निर्णय सदन में पटल में रखे बिना बाहर घोषित करने से सदन की अवमानना हुई है और सदस्यों का विशेषाधिकार हनन हुआ है वहीं मनरेगा के लंबित भुगतान को लेकर विपक्ष ने जमकर हंगामा और सदन से वॉकआउट कर दिया। कांग्रेस विधायक के सवाल पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री अजय चंद्राकर ने सदन को बताया कि 2017-18 से पहले की कोई मजदूरी भुगतान बकाया नहीं है। भाजपा विधायक ने भी मनरेगा के लंबित भुगतान को लेकर मंत्री को घेरने की कोशिश की। बिलाईगढ़ के भाजपा विधायक सनम जांगड़े ने मनरेगा में बकाया भुगतान को लेकर अपने ही सरकार के मंत्री सवाल पूछा। विधायक ने सदन को बताया कि उनके क्षेत्र में 20 पंचायतों में 2015 का भुगतान बाकी है।कांग्रेस विधायकों ने कहा ऐसे हालात पूरे प्रदेश में है। मंत्री जी गलत तथ्य पेश कर रहे हैं। उन्होंने मंत्री से विधानसभा की समिति बनाकर जांच कराने की मांग की। मंत्री अजय चंद्रकार ने विधायक की मांग को सिरे से ठुकरा दिया, इस पर विपक्ष ने सदन में हंगामा किया और नारेबाजी शुरू कर दी, इसके बाद विपक्ष ने कार्यवाही का बहिष्कार कर दिया।

error: Content is protected !!