रायपुर रेलवे स्टेशन में पकडाया फर्जी गार्ड, एक साल से कर रहा था ट्रेनों में सफ़र

०० मामा की लड़की से करता था प्यार, नहीं हुई शादी तो ट्रेन में गार्ड बन करने लगा सफ़र

रायपुर।राजधानी के रेलवे स्टेशन पर मंगलवार को दोपहर करीब 12 बजे एक फर्जी रेल गार्ड को पकड़ा गया है। ये रायपुर का रहने वाला है। आरोपी ने बताया कि ये मामा की लड़की से प्यार करता था। जब उससे शादी नहीं हो पाई तो बहुत धक्का लगा और कुछ बनकर दिखाने के चक्कर में फर्जी गार्ड बन गया। आरपीएफ रायपुर ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे कोर्ट में पेश किया गया यहां से उसे जेल भेज दिया गया है।

रायपुर स्टेशन में मंगलवार को दोपहर 12 बजे आरपीएफ की टीम ने एक फर्जी गार्ड को पकड़ लिया,फर्जी गार्ड का नाम तुलसी तांडी है और वह त्रिमूर्ति नगर रायपुर का रहने वाला है। सुबह 10 बजे से ही आरपीएफ और कुछ रेलकर्मी उसकी रेकी कर रहे थे, दुर्ग-रायपुर पैसेंजर में सफर के दौरान फर्जी गार्ड को टीम ने दबोच लिया।आरपीएफ पोस्ट प्रभारी राजीव रंजन ने बताया कि पिछले 1 साल से गार्ड बनकर कर फर्जी तरीके से ट्रेनों में सफर कर रहा था।रेल कर्मियों की सक्रियता के चलते इसकी गिरफ्तारी हो सकी है। स्टेशन डायरेक्टर बीपीटी राव ने बताया कि कई दिनों से इस गार्ड पर नजर रखी जा रही थी, लेकिन वह झांसा देकर भाग जाता था। आरोपी ने कहा कि वह वसूली करने के लिए गार्ड नहीं बना है, दरअसल ये रायपुर से दुर्ग सफर करता था।इस दौरान इसका टिकट का पैसा बच जाता था और ट्रेन में गार्ड बनने का अहसास मिलता था। आरोपी ने बताया कि ये अपने मामा की लड़की से प्यार करता था। वो भी इससे प्यार करती थी, आरोपी के मामा ने कहा कि ये नालायक है और इससे अपनी बेटी की शादी नहीं कर सकता है।एक दिन आरोपी के मामा ने अपनी बेटी की शादी कहीं और कर दी। आरोपी की प्रेमिका अपने ससुराल चली गई, तभी से उसने कुछ बनने की ठान ली आरोपी का दावा है कि वो बी.कॉम तक पढ़ा है और रेलवे में भर्ती होने के लिए कई बार एग्जाम दे चुका है।एग्जाम में सफलता नहीं मिलने पर उसने गार्ड के कपड़े पहन, फर्जी आईकार्ड बनवा लिया और बाकायदा नेम प्लेट लगाकर फर्जी स्टांप लेकर ट्रेनों में सफर करने लगा।

 

error: Content is protected !!