घड़ियाली आंसू बहाना बंद कर,पूर्ण शराबबंदी लागू करें रमन सरकार : विकास तिवारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि हड़िया शराब पर प्रतिबंध लगाना केवल दिखावा मात्र है जबकि रमन सरकार हर वर्ष 5 हजार करोड़ से ज्यादा की शराब बेच रही है, हडिया शराब से हुई मौत दुर्भाग्यजनक है प्रदेश सरकार इन मौतों पर केवल घड़ियाली आंसू बहाने का काम कर रही है, सरकारी दुकानों में शराब बेचने का फैसला रमन सरकार की यह नीति पूर्ण रूप  से विफल साबित हुई है। रमन सरकार की शराब नीति प्रदेशवासियों के हित में नहीं है, सरकारी शराब दुकानों से बिक्री होने के बावजूद अगर जहरीली शराब पहाड़ी कोरवा आदिवासियों सेवन कर रहे हैं तो यह दुर्भाग्यजनक है। सरकारी दुकानों की बिक्री नीति के बावजूद अगर कोचिया शराब बेच रहे है तो यह बिना सरकारी संरक्षण के संभव नहीं है। आज प्रदेश का शांत वातावरण शराबखोरी के कारण अशांत हो गया है, प्रदेश के युवाओं को नशे के जंजाल में धकेल दिया गया है आये दिन परिवार में नशे के कारण मारपीट, आत्महत्या और तलाक के प्रकरण बढ़ रहे हैं, वृद्ध, बूढ़े माँ-बाप की जघन्य हत्या की घटना सरकारी शराब के सेवन के उन्माद के कारण हो रही है। जशपुर जिले के नारायणपुर क्षेत्र के साहीढांढ गाँव के दर्रीटोली निवासी राष्ट्रपति द्वारा संरक्षण प्राप्त पहाड़ी कोरवा जनजाति के चौदह लोगो को जहरीली शराब के सेवन करने के कारण गंभीर हालत में बगीचा अस्पताल लाया गया जिसमें तीन कोरवा आदिवासी की मौत हो गयी और जो 10 आदिवासी की हालत चिंताजनक है।

मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा है कि इस प्रकार की बनाई जाने वाली हड़िया शराब पर जल्द प्रतिबंध लगाया जाएगा, मुख्यमंत्री रमन सिंह अगर संजीदा हैं तो उन्हें छत्तीसगढ़ में शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना चाहिए ताकि मध्यमवर्गीय एवं गरीब परिवारो में होने वाले विघटन, आत्महत्या-हत्या एवं पारिवारिक कलह से निजात मिले। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने मुख्यमंत्री रमन सिंह से मांग की है कि अगर वो राष्ट्रपति द्वारा संरक्षण प्राप्त पहाड़ी कोरवा जनजाति की हुई मौत से दुःखी है तो संज्ञान लेकर सरकारी शराब नीति लागू करने की गलती स्वीकार करते हुये प्रदेश में तत्काल पूर्ण शराबबंदी लागू किया जाना चाहिये।

 

error: Content is protected !!