कृषि समृद्धि राष्ट्रीय कृषि मेला छत्तीसगढ़ 2018, विधानसभा अध्यक्ष अग्रवाल करेंगे शुभारंभ

०० पांच पंडालों में हर दिन किसानों की कृषि वैज्ञानिकों और उद्यमियों से होगी परिचर्चा

रायपुर| छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल कल 24 जनवरी को अपरान्ह 3 बजे राजधानी रायपुर के नजदीक जोरा में छत्तीसगढ़ के तीसरे राष्ट्रीय कृषि मेले का शुभारंभ करेंगे। केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत मेले के शुभारंभ समारोह की अध्यक्षता करेंगे। कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल इस समारोह के अतिविशिष्ट अतिथि होंगे। उल्लेखनीय है कि राज्य शासन के कृषि विभाग और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा 24 जनवरी से 28 जनवरी तक कृषि समृद्धि राष्ट्रीय कृषि मेले का आयोजन किया जा रहा है। यह मेला ‘प्रति बूंद-अधिक फसल’ थीम पर आयोजित हो रहा है।
लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस, खाद्य मंत्री श्री पुन्नूलाल मोहले, लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत, सहकारिता मंत्री श्री दयालदास बघेल, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्री रमशीला साहू, वन मंत्री श्री महेश गागड़ा, संसदीय सचिव श्री तोखन लाल साहू, विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा, श्री देवजी भाई पटेल, श्री श्रीचंद सुंदरानी, नगरपालिक निगम रायपुर के महापौर श्री प्रमोद दुबे, जिला पंचायत रायपुर की अध्यक्ष श्रीमती शारदा वर्मा, छत्तीसगढ़ राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम के अध्यक्ष श्री श्याम बैस, अपेक्स बैंक के अध्यक्ष श्री अशोक बजाज, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम के अध्यक्ष श्री छगन मूंदड़ा, छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र सिंह सवन्नी, छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मंडल के अध्यक्ष श्री मोहन एंटी, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव, छत्तीसगढ़ राज्य कृषक कल्याण परिषद के उपाध्यक्ष श्री विशाल चंद्राकर, छत्तीसगढ़ मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष श्री भरत मटियारा, छत्तीसगढ़ राज्य गौसेवा आयोग के अध्यक्ष श्री विशेषर पटेल, छत्तीसगढ़ श्रम कल्याण मंडल के उपाध्यक्ष श्री सुभाष तिवारी, छत्तीसगढ़ के पूर्व मंत्री श्री पूनम चंद्राकर तथा छत्तीसगढ़ चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज रायपुर के अध्यक्ष श्री जितेंद्र बरलोटा इस समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे।

राष्ट्रीय कृषि मेला : ‘किसान पाठशालाएं’ मेले के खास आकर्षण :- राजधानी रायपुर के नजदीक ग्राम जोरा में कल 24 जनवरी से 28 जनवरी तक आयोजित पांच दिवसीय कृषि समृद्धि राष्ट्रीय कृषि मेला 2018 में ‘किसान पाठशालाएं’ विशेष आकर्षण होंगी। इन पाठशालाओं में किसानों की कृषि वैज्ञानिकों और उद्यमियों से परिचर्चा होगी। पाठशालाओं के लिए पांच पंडाल लगाए गए हैं। सभी पंडालों में दोपहर 1 बजे से शाम 5 बजे तक अलग-अलग कार्यक्रम होंगे।
किसान पाठशालाओं में आज के कार्यक्रम :- किसान पाठशाला में मेले के पहले दिन कल 24 जनवरी को पंडाल क्रमांक-1 में ‘प्रति बूंद अधिक फसल’ थीम पर आधारित कार्यक्रम रखे गए हैं। इस पंडाल में प्रति बूंद पानी से अधिक फल और सब्जी उत्पादन के बारे में बताया जाएगा। पंडाल क्रमांक-2 में फसल उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने के उपाय, उद्यानिकी फसलों से किसानों की आय दोगुनी करने, पशुपालन, दुध उत्पादन, मछलीपालन और मुर्गीपालन से किसानों की आय दोगुनी करने के संबंध में जानकारी दी जाएगी। पंडाल क्रमांक-3 में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के विभिन्न आयामों पर चर्चा होगी। उद्यानिकी फसलों के लिए लागू मौसम आधारित बीमा योजना तथा केन्द्र और राज्य शासन की योजनाओं की जानकारी के साथ-साथ प्रधानमंत्री बीमा योजना के अंतर्गत नुकसान का निर्धारण तथा पशुपालन तथा बकरीपालन से संबंधित छत्तीसगढ़ शासन की पशुधन बीमा योजना पर परिचर्चा होगी।किसान पाठशाला के अंतर्गत पंडाल क्रमांक-4 में दुधारू पशुओं में पोषण का महत्व, दुधारू पशुओं के रोगों की पहचान एवं उनके निदान, दुध उत्पादन संभावनाएं एवं चुनौतियां, परिपूरक आहार के साथ मछलीपालन और डेयरी व्यवसाय से आय दोगुनी करने किसानों को उपयोगी जानकारी दी जाएगी। पंडाल क्रमांक-5 में कृषि तकनीक का जीवंत प्रदर्शन होगा। मिट्टी स्वास्थ्य परीक्षण के लाभ, जैव उर्वरक उत्पादन, मशरूम उत्पादन तकनीक, पैराकुट्टी उपचार, रोग/कीट नियंत्रण की जैविक विधि के संबंध में किसानों को ज्ञानवर्धक जानकारी भी मिलेगी। पंडाल क्रमांक-5 में किसान प्रश्नमंच का आयोजन होगा।

 

 

error: Content is protected !!