बालोद मे खुलेआम अवैध उत्खनन प्रशासन बना मूकदर्शक

 

खिलानंद नागे (बालोद) जिले मे अवैध खनन जारी है। खनन माफिया के द्वारा जगह जगह खनन कार्य किया जा रहा है। खनिज अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर पूरे जिले मे अवैध रूप से खनन कार्य किया जा रहा है। खनिज का दोहन करने वाले ठेकेदारों द्वारा नियम कानून का उल्लंघन कर खुल कर दोहन किया जा रहा है। अवैध रूप से मुरूम खनन कर रहे एक ठेकेदार ने बताया कि एक किसान के उनकी निजी जमीन को खेत बनाने का झांसा देकर खुलकर अवैध रूप से मुरूम खनन किया जा रहा है। ना ही पंचायत से अनुमति लिया गया है।और ना ही खनिज विभाग से अनुमति लिया गया है। फिर भी बेखौफ होकर अवैध रूप से खनन कार्य को अंजाम दिया जा रहा है। उक्त खनन के बारे मे जानकारी लेने पर खनिज विभाग से अनुमति होना बताते है। जबकि खनिज विभाग से अनुमति मिलती है। तो पंचायत में रायल्टी के लिए अनुमति लेना होता है। और यही नही परिवहन के लिए भी अनुमति लेना होता है। लेकिन ठेकेदार द्वारा अपने पकड़ पहुंच के बल पर अवैध रूप से खनन कार्य को अंजाम दिया जा रहा है। वही जिले के अधिकारियों मूकदर्शक बने बैठे हुए है। ना ही अवैध खनन के मामले में कोई कार्यवाही की जा रही है। जिसके चलते खनन माफि‍याओ के हौसले काफी बुलंद है। खनन माफि‍याओ के चलते शासन को लाखो करोड़ो रूपयों की रायल्टी पर चुना लगाया जा रहा है। जिले में गुणडरर्देही गुरूर बालोद जैसे ब्लाक मुख्‍यालय से 10.15 किलोमीटर की दूरी पर ही अवैध निकाशी जारी है। जिले के अधिकारियों की लापरवाही के चलते कहे या सांठ गांठ के चलते अवैध रूप से खनन जारी है। पढ़ते रहे। जल्द ही बताएंगे हम आपको कहां कहां हो रही है अवैध खनन।

error: Content is protected !!