मुख्यमंत्री के गृह जिले मे सी.ई.ओ.की गुंडागर्दी – अकाउंटेंट को जड़ा थप्पड़

रवि ग्वाल (कवर्धा) छ्त्तीसगढ़ में अफसरशाही किस हद तक अपना चरमसिमा पार कर रहा है वो तो बखूबी दिखाई दे रहा है और जब मुख्य मंत्री के गृह जिले का ऐसा अफसरशाही और हिटलरशाही आलम हो तो बांकी जिलों में क्या क्या होता होगा ये अंदाज लगाना लाजमी है मगर हद तो अब ये हो गया कि जिले में विकास और सुरक्षा की दृष्टिकोण से जिले में पदस्त उच्च अधिकारी ही अपना जलवा गुंडागर्दी में दिखा रहे है ऐसे स्थिति में लोक सेवक नामक शब्द सिर्फ मुहचलका जुबानी रह जायेगा ।

जिले में अफसरशाही की गूंज कई तरीकों से गूंजती रही है इस बार संसदीय सचिव मोतीराम चंद्रवंशी के पण्डरिया विधानसभा क्षेत्र में स्थित सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना में पदस्थ अकाउंटेंट साहेब लाल को विगत दिवस भारतीय प्रशासनिक सेवा के युवा अधिकारी जिला पंचायत के सीईओ कुंदन कुमार ने कारखाना परिसर में ही तीन तमाचा जड दिये है। वही दूसरे युवा अफसर जिला कलेक्टर नीरज बंसोड ने अफसरसाथी का साथ देते हुए पीडित अकाउंटेंट पर दबाव बनाते हुए अफसर से माफी मंगवा दिया, इस पूरे घटना क्रम से पीडित व्यक्ति दहशत में है।

पीडित अकाउंटेंट साहेब लाल ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि स्थानीय और बाहरी व्यक्ति के मुद्दे पर चीफ इंजीनियर से उनके कर्मचारी की शिकायत की थी। जिसके बाद कलेक्टर और सीईओ साहब कारखाना पहुंचे और कर्मचारियो के बीच सीईओ कुंदन कुमार ने तीन तमाचा मारा, उसके बाद अपशब्दों का प्रयोग करते हुए कलेक्टर नीरज बंसोड ने मुझे सीईओ साहब के पैर पकडकर माफी मांगने का आदेश दिया। मैं दहशत के चलते बैगर गलती के सीईओ साहब के पैर पकडकर माफी मांगा, अब मुझे समझ में आ रहा है कि मैंने दहशत के चलते ये क्या कर डाला वही दूसरी ओर दोनो अफसर घटना से अपने आप को अनभिग्य बता रहे है। जिला पंचायत सीईओ कुंदन कुमार ने कहा कि मुझे बदनाम करने के लिए ऐसा भ्रम फैलाया जा रहा है। वही दूसरी ओर कलेक्टर नीरज बंसोड ने कहा कि घटना की मुझे कोई जानकारी नही है मामला क्या है पता करवाता हूं।

error: Content is protected !!