वन-विभाग में लाखो की गड़बड़ी मामले में प्रार्थी ने दिया शपथपत्र कहा मुझे कोई शिकायत नहीं

०० प्रार्थी के शपथपत्र के सामने आने से मामले में आया नया मोड़

०० डीएफओ, डीएफओ, रेंजर, डिप्टी रेंजर, फारेस्ट गार्ड पर किया गया है धोखाधड़ी का मामला दर्ज

रायपुर| बलौदाबाज़ार वन मंडल के रोहांसी वन परिक्षेत्र में लकड़ी परिवहन के नाम में लाखो की राशि का गबन का आरोप तत्कालीन डीएफओ, डीएफओ, एसडीओ, रेंजर, डिप्टी रेंजर, फारेस्ट गार्ड के नाम से धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया था मगर इस पुरे मामले के प्रार्थी ने अपनी शिकायत को लेकर एक शपथपत्र देकर इस मामले को उलझाकर रख दिया है| प्रार्थी ने स्वयं दिए शपथपत्र में कहा है कि मेरे द्वारा प्रमाणको के अवलोकन एवं प्रमाणक के अनुसार कराये गए क्षेत्रीय कार्यो का निरिक्षण किया गया है जिसमे किसी तरह की अनियमितता नहीं पायी गयी है उक्त प्रमाणको के संबंध में मुझे कोई शिकायत नहीं है|

प्रार्थी नारायण सिंह चौहान ग्राम बोरतरा द्वारा सूचना के अधिकार द्वारा लकड़ी परिवहन संबंधी जानकारी मांगी गई थी। जिसमें इस बात का खुलासा हुआ। प्राप्त जानकारी के आधार पर प्रार्थी ने संबंधित विभाग और पुलिस से उक्त मामले में कार्यवाही करने की कई बार गुहार लगाई परंतु जब कही भी उसकी सुनवाई नहीं हुई तो उसने न्यायालय की शरण ली।जहां मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी आदित्य जोशी ने मामले की सुनवाई करते हुए 15 जनवरी मंगलवार को शासकीय राशि में कूट रचना कर गबन करने के मामले में संलिप्त बलौदाबाजार के पूर्व डीएफओ शिवशंकर बड्गय्या, एसडीओ एसबी द्विवेदी, रेंजर कोमल दास घृतेश, डिप्टी रेंजर रतन सिह डड़सेना, फारेस्ट गार्ड सतीश सोनकेवरे के खिलाफ कोर्ट के आदेश पर धारा 420, 409, 467, 468, 471, 34 के तहत अपराध पंजीबद्घ किया गया।

error: Content is protected !!