मेकाहारा में बच्चो की मौत पर भड़के जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ प्रवक्ता भंसाली

०० पीड़ित परिवारों से मिलने पहुचे मेकाहारा

०० कहा स्वास्थ्य मंत्री नही कर पा रहे ढंग से काम तो मुझे बना दे स्वास्थ्य मंत्री स्वस्थ व्यवस्था पटरी पर ले आऊंगा

रायपुर।जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के तेज तर्रार प्रसिद्ध प्रदेश प्रवक्ता नितिन भंसाली ने अंबेडकर अस्पताल में हुई बच्चों की मौत पर दुख व्यक्त किया है अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भंसाली ने कहा कि अंबेडकर अस्पताल में अव्यवस्थाओं के अभाव में और डॉक्टरों की लापरवाही के कारण बच्चों की मौत का मामला बेहद दुखद है लेकिन इस मामले पर केवल दुख नहीं बताया जा सकता  इसके साथ ही प्रदेश सरकार और प्रशासन को सख्त कदम उठाने पड़ेंगे। बच्चो की मौत से आहत JCC(J) प्रवक्ता तुरंत मेकाहारा पहुचे और अस्पताल प्रशासन से मामले कि सच्चाई सामने रखने की मांग की।

नितिन भंसाली ने कहा कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग करती है। उन्होंने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यजनक बात है कि प्रदेश के मुखिया खुद एक डॉक्टर है उसके बावजूद प्रदेश में सरकारी अस्पतालों में ऐसी घटनाएं हो रही हो रही है नितिन भंसाली ने कहा की आज जो घटना हुई है वह पहली नहीं है ।इसके पहले भी अंबेडकर अस्पताल में ऐसी कई घटनाएं सामने आती रही हैं उन्होंने ऑक्सीजन सप्लाई के दौरान प्रेशर लेवल कम होने के मामले को याद करते हुए कहा कि इसके पहले भी इस अस्पताल में 4 मासूमों की जान जा चुकी है ।उसके बाद फिर दोबारा मासूमों की मौत हो जाना अस्पताल प्रबंधन की असंवेदनशील सोच को दर्शाता है प्रशासन और खुद मुख्यमंत्री को खुद यह सोचना होगा कि आखिर क्यों प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में काम करने वाले डॉक्टर बच्चों महिलाओं और आम जनों की जिंदगी को लेकर संजीदा नहीं है उन्होंने कहा कि केवल VIP लोग अस्पतालों में जाकर इलाज कराकर मीडिया में सुर्खियां बटोर लेते हैं। लेकिन आम लोगों के लिए सरकारी अस्पतालों में सुविधाएं वैसी की वैसी है उन्होंने सुपर बड़ा गांव के घटनाक्रम को भी याद किया और बताया कि सुपेबेड़ा में करीब 56 लोगों की मौत से किडनी खराब होने के कारण हो गई थी इलाज के लिए भटकते लोग मेकाहारा तक आए लेकिन वहां सुविधाएं ना होने के कारण उन्हें वापस लौटना पड़ा था।  लगातार अंबेडकर अस्पताल और उसका प्रबंधन सवालों के दायरे में खड़ा हुआ है ।उसके बावजूद प्रदेश के मुखिया डॉ रमन सिंह क्यों खामोश है यह बात प्रदेश की जनता जानना चाहती है ? उन्होंने कहा   डॉक्टर साहब प्रदेश की जनता के इलाज के लिए आगे नहीं आ सकते या प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अपनी जिम्मेदारी नहीं निभा पा रहे तो मुझसे कहे। स्वस्थ मंत्री अजय चंद्रकार इस्तीफा दे दे और मुझे कार्यभार सौप दे।मैं स्वास्थ्य विभाग को संभालने के लिए तैयार हूं और यह वादा करता हूं कि प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था को पटरी पर ले आऊंगा । अगर जिलों में आप 1 दिन का शैडो कलेक्टर बना सकते हैं तो मुझे कुछ समय के लिए प्रदेश का स्वास्थ्य मंत्री बना दीजिए और मेरी बात सुनिए मैं प्रदेश का स्वास्थ्य सम पटरी पर ले आऊंगा।उन्होंने दोहराया कि स्वस्थ मंत्री और मेकाहारा के अस्पताल अधीक्षक विवेक चौधरी को तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए

 

error: Content is protected !!