जनता के विश्वास को खंडित नहीं होने देंगे: डॉ. रमन सिंह

०० मुख्यमंत्री ने विकास तिहारमें किया एक हजार करोड़ से ज्यादा के निर्माण कार्यों का लोकार्पण-भूमिपूजन

०० विभिन्न योजनाओं में दस हजार से ज्यादा हितग्राहियों को सामग्री और चेक वितरित

०० ईब नदी पर छत्तीसगढ़-ओड़िशा को जोड़ने वाला पुल भी लोकार्पित

०० मुख्यमंत्री ने कहा: बहुत जल्द पंच-सरपंचों से भी करेंगे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सीधी बातचीत

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि जनता ने जिस विश्वास के साथ उन्हें और उनकी सरकार को राज्य की सेवा का अवसर दिया है, लोगों के उस विश्वास को वह खंडित नहीं होने देंगे। डॉ. सिंह आज दोपहर राज्य के आदिवासी बहुल जशपुर जिले के ग्राम खारीबहार ( लवाकेरा ) में ‘विकास तिहार’ के रूप में आयोजित एक विशाल जनसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने लोगों को नये वर्ष 2018 की बधाई दी और सबके प्रति अपनी शुभेच्छा प्रकट की।
डॉ. सिंह ने इस मौके पर एक हजार 076 करोड़ 31 लाख रूपए के विभिन्न निर्माण कार्योें का लोकार्पण, भूमिपूजन और शिलान्यास किया। इनमें फरसाबहार विकासखंड के अंतर्गत ग्राम खारीबहार में ईब नदी पर पांच करोड़ 19 लाख रूपए की लागत से निर्मित 270 मीटर लम्बे पुल का लोकार्पण भी शामिल है। डॉ. सिंह ने इस अवसर पर विभिन्न योजनाओं के तहत 10 हजार 302 हितग्राहियों को लगभग एक करोड़ 94 लाख रूपए की सामग्री और अनुदान राशि का चेक वितरित कर उन्हें शुभकामनाएं दी। डॉ. रमन सिंह की जनसभा इस पुल के नजदीक आयोजित की गई थी। उन्होंने जनता को संबोधित करते हुए कहा – यह पुल इस क्षेत्र की वर्षाें पुरानी जरूरत थी। अब इसके बन जाने पर दो राज्यों – छत्तीसगढ़ और ओड़िशा के बीच सड़क सम्पर्क आसान हो गया है। छत्तीसगढ़ राज्य अपने निर्माण और विकास यात्रा के 18वंे साल में प्रवेश कर चुका है। पूरे राज्य में विकास की बयार बह रही है। जशपुर जिले के लिए आज इस कार्यक्रम में एक साथ एक हजार 76 करोड़ रूपए के निर्माण कार्याें का लोकार्पण और भूमिपूजन इसका एक बड़ा उदाहरण है। मुख्यमंत्री ने कहा  – भारत नेट परियोजना के तहत राज्य की सभी ग्राम पंचायतों को 32 हजार किलोमीटर से ज्यादा ऑप्टिकल फाइबर केबल नेटवर्क से जोड़ा जा रहा है, ताकि गांवों में भी इंटरनेट की सुविधा आसानी से मिल सके। उन्होंने कहा – इसका एक फायदा यह भी होगा कि मैं निकट भविष्य में राजधानी रायपुर में बैठकर प्रदेश के पंच-सरपंचों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सीधे बातचीत कर सकूंगा। उन्होंने कहा – संचार क्रांति योजना के तहत अगले आठ माह में राज्य के 50 लाख लोगों को स्मार्ट फोन देने की तैयारी भी तेजी से चल रही है। स्मार्ट फोन के जरिये लोग न सिर्फ मोबाइल पर बातचीत कर सकेंगे, बल्कि अपने स्मार्ट फोन पर उन्हें शासकीय योजनाओं की भी जानकारी मिल सकेगी और वे इन योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा – छत्तीसगढ़ के 50 लाख लोगों को मिलने वाले स्मार्ट फोन को जनधन योजना, आधार और मोबाइल से भी जोड़ा जाएगा। आप इसके जरिये कैशलेस लेनदेन भी कर सकेंगे। एक प्रकार से यह स्मार्ट फोन आपके लिए मिनी बैंक की तरह काम करेगा। मनरेगा का भुगतान भी इसके जरिये हो सकेगा। डॉ. रमन सिंह ने कहा- संचार क्रांति योजना के जरिये मिलने वाला यह स्मार्ट फोन लोगों के जीवन को सरल बनाने का काम करेगा। उन्होंने कहा – आखिरी गांवों तक सड़क, बिजली और संचार कनेक्टिविटी पहुंचाना हमारा उद्देश्य है। मुख्यमंत्री ने कहा – केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं से प्रदेश के अन्य जिलों के साथ-साथ जशपुर जिले की भी तस्वीर तेजी से बदल रही है। उन्होंने नये वर्ष की सौगात के रूप में अगले लगभग छह माह में जशपुर जिले के 80 हजार घरों को बिजली का कनेक्शन देकर रौशन करने की भी घोषणा की। डॉ. सिंह ने कहा – अब जशपुर जिले का कोई भी घर, कोई भी पारा, मजरा-टोला बिजली की रौशनी से वंचित नहीं रहेगा। मेरे निर्देश पर ऊर्जा विभाग के सचिव और विद्युत वितरण कंपनी के एम.डी. जशपुर आकर जिले के विद्युतीकरण के शेष कार्याें को जल्द से जल्द पूर्ण करवाने के लिए आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे। डॉ. रमन सिंह ने कहा जशपुर जिले में सरकार की सभी प्रमुख योजनाओं के लक्ष्यों को तेजी से पूरा किया जा रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना और स्वच्छ भारत मिशन के तहत जिले में हुई प्रगति की विशेष रूप से प्रशंसा की। मुख्यमंत्री ने कहा – प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत जशपुर जिले ने वर्ष 2016-17 में 50 हजार के भौतिक लक्ष्य के विरूद्ध 55 हजार गरीब परिवारों की महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन देकर एक बड़ा कीर्तिमान बनाया है। उन्होंने यह भी कहा कि चालू वित्तीय वर्ष 2017-18 में इस जिले में 60 हजार महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य है, जबकि अबतक 38 हजार कनेक्शन दिए जा चुके हैं। उन्होंने कहा – यह भी खुशी की बात है कि आज के इस कार्यक्रम में 10 हजार महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन दिए जा रहे हैं। डॉ. सिंह ने कहा -सौर सुजला योजना के तहत जिले में वर्ष 2016-17 में 700 किसानों को सोलर सिंचाई सिंचाई पम्प देने का लक्ष्य था, जबकि लक्ष्य से अधिक 938 सोलर पम्प दिये गये हैं।डॉ. सिंह ने कौशल उन्नयन के क्षेत्र में भी जशपुर जिले में युवाओं को दिये जा रहे कौशल प्रशिक्षण का विशेष रूप से उल्लेख किया और कहा कि कौशल उन्नयन में भी यह जिला कीर्तिमान बना रहा है, जहां 10वीं-12वीं पास या उससे भी कम पढ़े-लिखे युवाओं को विभिन्न व्यवसायों का प्रशिक्षण देकर आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा – अगर लोगों के हाथों में कौशल आ जाए तो जीवन में चमत्कार होने लगता है। इस प्रकार के परिवर्तन से जिले को आर्थिक स्वतंत्रता मिलेगी। लोग अपने पैरों पर खड़े होंगे। शिक्षा के क्षेत्र में भी यह जिला काफी अग्रणी है। यहां के विद्यार्थी  शासन की योजनाओं का लाभ लेकर मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों और आई.आई.टी. जैसी संस्थाओं में भी प्रवेश ले चुके हैं। मुख्यमंत्री ने जशपुर जिले में सड़क निर्माण के क्षेत्र में हो रहे कार्याें की भी प्रशंसा की। डॉ. रमन सिंह ने कार्यक्रम में मौजूद गृह मंत्री श्री रामसेवक पैकरा और लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत के विभागों के कार्याें की तारीफ करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में नक्सल हिंसा और आतंक को समाप्त करने की दिशा में गृह मंत्री श्री पैकरा काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं, वहीं पूरे प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाने के लिए लोक निर्माणमंत्री श्री राजेश मूणत भी काफी मेहनत कर रहे हैं। जशपुर जिले के सांसद, विधायक, पंचायत प्रतिनिधि और अन्य सभी जनप्रतिनिधि तथा कलेक्टर सुश्री प्रियंका शुक्ला और जिला प्रशासन की उनकी पूरी टीम की मेहनत भी सराहनीय है।

 

error: Content is protected !!