गोबरीपाठ सरपंच के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित

०० सरपंच श्रीमती सुशीला मरकाम के विरुद्ध 13 पंचों ने दिया अविश्वास प्रस्ताव

कोटा| कोटा जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत गोबरीपाठ की सरपंच श्रीमती सुशीला मरकाम के विरुद्ध 13 पंचों ने अविश्वास प्रस्ताव पारित कर दिया है| पूर्व में सरपंच से आय व्यय व मूलभूत सुविधाओं के बारे में पचों के द्वारा जानकारी मांगी जाती थी तो सरपंच द्वारा गोलमोल जवाब दिया जाता था।  सरपंच श्रीमती सुशीला मरकाम एक महिला होने के बावजूद भी ग्राम पंचायत गोबरीपाठ विकास की ओर नहीं ले जा सकी और वहां की स्थिति इतनी खराब हो चुकी थी की ग्राम पंचायत गोबरीपाठ के पांचों के द्वारा जब आय व्यय 13वे वित्त  14वे वित्त की राशि की जानकारी मांगी जाती थी तो उनके द्वारा सही जानकारी नहीं दिये जा रहे थे इसी को लेकर ग्राम पंचायत गोबरीपाठ के 15 पंचो के द्वारा अविश्वास प्रस्ताव पारित करने का निर्णय लिया गया और वह सफल भी रहा|

ग्राम पंचायत गोबरीपाठ के सरपंच के कार्यो से पंच काफी नाराज थे, पंचों के द्वारा अनुभागीय अधिकारी कोटा एसडीएम  को अविश्वास प्रस्ताव पारित लाने के लिए ज्ञापन सौंपे थे। उसी को देखते हुए अनुभागीय अधिकारी कोटा के द्वारा छत्तीसगढ़ पंचायत अधिनियम के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव नियम 1994 के नियम 3 के अनुसरण की अधिनियम की धारा 21 के अधीन विकासखंड कोटा ग्राम पंचायत गोबरीपाठ के सरपंच श्रीमती सुशीला मरकाम के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव पारित कर दिए गया। अनुभागीय अधिकारी कोटा एसडीएम के निर्देशन पर 4-1 -2018 को ग्राम पंचायत गोबरीपाठ के प्राथमिक शाला स्कूल भवन में तहसीलदार श्रीमती हेमलता डेहरिया पीठासीन अधिकारी की मौजूदगी में सभी पंचो की उपस्थिति में मतगणना की गई जिसमें की सरपंच सुशीला मरकाम के पक्ष में दो मत पड़े और उसके विरुद्ध में 13 पंचों ने मत पड़े। पंचों ने बतलाया कि गांव के विकास को देखते हुए हम लोग सरपंच के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित किया है।

 

error: Content is protected !!