अधिकारियों के उदासीनता के चलते स्कूलों मे अव्यवस्था पसरी

चंद्रकांत गढ़वाल (कोरिया) लगातार राज्य सरकार शिक्षा के स्तर को बढ़ावा देने प्रयासरत है लेकिन अधिकारियों की उदासीनता के कारण स्कुलो की अव्यवस्था पसरी हुई है  सुधरने का नाम नही ले रही विकासखण्ड सोनहत में लगभग सभी ग्रामीण वनांचल क्षेत्रो मे संचालित स्कूलो कि यही दसा देखने को बनती है स्कुलो की व्यवस्था भगवान भरोसे नजर आ रही है  विकासखण्ड सोनहत में संचालित पूर्व माध्यमिक शाला चकडाँड़ में ऐसी ही अव्यवस्था का आलम देखने को मिला जहा संचालित तीन कक्षाओं के लिए तीन शिक्षक के भरोसे जिसमे से प्रधानपाठक को ही संकुल में अटेच कर दिया गया है तीन कक्षाओं की जिम्मेवारी सिर्फ दो शिक्षकों के भरोसे और मुखिया बिना स्कूल की व्यवस्था चरमरा सी गई है जिसका खामियाजा बच्चों को भुगतना पड़ रहा ये कहना गलत नही होगा कि बच्चों का भविष्य अंधकार में है अगर दर्ज संख्या में बच्चे स्कूल पहोच जाए तो उन्हें जमीन में बैठना पड़ता है सालो से डेस्क बेंच टूटे पड़े है। मध्यान भोजन खुले में कर रहे आस – पास आवारा कुत्ते घूमते नजर आते है जिसे देख ये कहना गलत नही होगा कि जान को कोई खतरा नही है शिक्षक भी है पर वो ग़ैरजिमेदरायना रवैया अपनाते नजर आ रहे है पदस्थ  शिक्षकों का कहना कि व्यवस्था सुधार करने की मांग की गई है पर उनसे जो हो सकता है उससे वो मुह मोड़ते नजर आते है। वही विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी ने पूरे मामले में सफाई देते हुए कहा निरीक्षण कर जल्द ही व्यवस्था दुरुस्त की जाएगी और प्रधानपाठक को पद स्थापना पर वापस भेजा जाएगा।

error: Content is protected !!