धान का उठाव न होने से धान खरीदी केन्द्रों में संकट

०० खुले में पड़ा है धान

बिलासपुर। सुखाग्रस्त जिला बिलासपुर में 15 नवंबर से धान खरीदी शुरू हुई थी। इस बार पिछले वर्षों के मुकाबले धान खरीदी का दबाव कम है। किन्तु मस्तुरी क्षेत्र में अव्यवस्था के कारण धान खरीदी केन्द्रों से उठाव न होने के कारण कई हजार किवंटल धान खुले में पड़ा है। यहां तक की अपनी बारी का इंतजार करते किसानों को अपनी धान की रखवाली के लिए या तो स्वयं खरीदी केन्द्र पर रहना पड़ता है। अथवा चैकीदार की व्यवस्था करनी पड़ती है। मस्तुरी के केन्द्र पर 8हजार किवंटल का स्टाॅक वर्तमान में है। पूर्व से 20 हजार किवंटल का उठाव नही हुआ है। इस तरह 28 हजार किवंटल धान केन्द्र पर डंप हो गया है। जिसके कारण नई खरीदी बेहद धीमी गति से की जा रही है। मस्तुरी ब्लाॅक के जयरामनगर धान ख्रीदी केन्द्र पर 9 हजार किवंटल हरदाडीह में 2.300 किवंटल, एरमसाही में1.739 किवंटल, तेंदुआ 2.4 किवंटल का धान केन्द्र पर डंप है। धान खरीदी केन्द्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार हरदाडीह और एरमसाही में लगातार धान खरीदी के कारण उठाव नही हुआ। साथ ही विपणन संघ की लापरवाही से इन केन्द्रों पर बारदाना भी नही पहुंचा। जिसका खामियाजा अब बारदाने की कमी के रूप में उठाना होगा। इन सब परेशानी से निश्फिक्र विपणन संघ के डीएमओ सीआर जोशी राईस मिलर्स के साथ मिटिंग में व्यस्त  है।

error: Content is protected !!