अवैध क्लीनिकों पर की गई कार्यवाही

मुंगेली -छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय बिलासपुर के निर्देशानुसार अवैध रूप से संचालित पैथोलाजी सेंटर/नर्सिंग होम/क्लीनिक पर कार्यवाही अंतर्गत अनुविभागीय अधिकारी (रा.) सुमित अग्रवाल, जिला नोडल अधिकारी नर्सिंग होम एक्ट डॉ. सुदेश रात्रे एवं खण्ड चिकित्सा अधिकारी विकासखण्ड मुंगेली डॉ. एम.के. राय द्वारा गुरूकृपा क्लीनिक बालानी चौक का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान क्लिनिक में बहुत अधिक मात्रा में प्रचार-प्रसार हेतु पाम्पलेट तथा अन्य प्रकार की औषधी पाई गई जिसे टीम ने जब्त किया। क्लिनिक का वैध लाइसेंस तथा मान्यता प्राप्त संस्था से सर्टिफिकेट नहीं होने के कारण अधिकारियों द्वारा क्लिनिक को सील बंद किया गया। इसी प्रकार शंकर मंदिर के पास डॉ. चंद्रजीत यादव द्वारा संचालित क्लिनिक में निरीक्षण के दौरान एलोपैथी दवाईयां पाई गई जिसें जब्त किया गया। मान्यता प्राप्त संस्था से सर्टिफिकेट नहीं होने के कारण सील बंद किया गया। डॉ. राकेश तिवारी पण्डरिया रोड मुंगेली के क्लिनिक का भी निरीक्षण किया गया। जिसमें नर्सिंग होम एक्ट के तहत छत्तीसगढ़ राज्य उपचर्या गृह तथा रोगोंपचार संबंधी स्थापनाएं अनुज्ञापन अधिनियम 2010 के तहत लाइसेंस प्राप्त करने हेतु किसी प्रकार का पंजीयन नहीं कराया गया है। अवैध रूप से क्लिनिक का संचालन किया जा रहा था। उपस्थित डॉक्टर को लाइसेंस प्राप्त करने के लिए ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन करने हेतु निर्देश दिए गए।
इसी प्रकार विकासखण्ड लोरमी में जिला नोडल अधिकारी नर्सिंग होम एक्ट डॉ. सुदेश रात्रे, खण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ. जी.एस. दाउ की टीम द्वारा डॉ. आशीष सोनी दंत चिकित्सालय मुंगेली रोड लोरमी में निरीक्षण के दौरान शासकीय संस्था में सेवारत अन्य महिला डॉक्टर को दंत संबंधी ईलाज करते पाया गया। उक्त महिला चिकित्सक को स्पष्टीकरण जारी कर तीन दिवस के भीतर जवाब मांगा गया है। डॉक्टर की अनुपस्थिति में क्लिनिक को बंद रखने की सलाह दी गई। सिद्धि विनायक डेंटल केयर मुंगेली रोड लोरमी में निरीक्षण किया गया। क्लिनिक में उपस्थित चिकित्सक डॉ. सुषमा सिंह को नियमानुसार पंजीयन कराकर क्लिनिक का संचालन करने कहा गया। इसी प्रकार कश्यप पैथोलॉजी कलेक्शन सेंटर, चौबे पैथोलॉजी सेंटर लोरमी, तारा पैथोलाजी कलेक्शन सेंटर लोरमी का निरीक्षण किया गया। छत्तीसगढ़ राज्य उपचर्या गृह तथा रोगोपचार नियम 2013 के तहत पैथोलाजी सेंटर संचालित करने के लिए निर्धारित मापदंड के अनुसार नहीं पाये जाने पर लैब का संचालन बंद रखने हेतु निर्देश दिये गये। अशोक जायसवाल डबरीपारा लोरमी के क्लिनिक पर भी छापा मारा गया। उन्हें क्लिनिक संचालित करने संबंधी दस्तावेज के साथ जिला कार्यालय में उपस्थित होने के निर्देश दिये गये।

error: Content is protected !!