विधानसभा : 20 घंटे बहस के बाद 10 वोटों से गिरा अविश्वास प्रस्ताव  

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के शीतकालीन सत्र में विपक्ष ने सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया। इस पर चर्चा के लिए आसंदी ने 22 दिसम्बर का दिन तय किया था, लेकिन दोपहर 12 बजे से जो चर्चा शुरु हुई वह 23 दिसम्बर को सुबह 8 बजे तक चली। इस दौरान अब में विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव 10 वोटों से धराशाई हो गया। इस प्रकार यह चर्चा कुल 20 घंटे तक चली। यह प्रदेश के इतिहास की सबसे लंबी बहस है।
मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा, तो वहीं सरकार की जनकल्याण कारी योजनाओं और सरकार की नीतियों का भी जिक्र किया। इस अविश्वास प्रस्ताव में करीब 55 से अधिक विधायकों ने पक्ष और विपक्ष की तरफ से अपनी राय रखी। विपक्ष ने आदिवासियों, बिगड़ती कानून व्यवस्था, सीडी मामले, शिक्षाकर्मी जैसे कई मुद्दों पर जमकर आरोप लगाए। हालांकि कई दफा टकराव की भी नौबत आई। कुछ असंसदीय शब्दों को विलोपित भी करना पड़ा, लेकिन आखिर मत विभाजन के बाद सत्ता पक्ष ने जीत दर्ज की। सदन में उस वक्त माहौल काफी गरम हो गया, जब सदन ने सीडी मामले का जिक्र हुआ। इस मुद्दे पर विपक्ष और सत्ता पक्ष के बीच खूब नोक-झोंक हुई। अंत में हुए मतदान में सरकार के खिलाफ कांग्रेस का अविश्वास प्रस्ताव 38 के मुकाबले 48 वोट से गिर गया।

 

 

error: Content is protected !!