वाहन जांच के नाम पर यातायात पुलिस कर रही जमकर वसूली

०० यातायात विभाग के सिपाही खुलेआम कर रहे वसूली

बिलासपुर। शहर में यातायात के नाम पर एक भी मार्ग सुरक्षित और सुगम नही है किन्तु यातायात पुलिस सुचारू यातयात के लिए काम न कर सिर्फ वसूली में लगी है। अल सुबह से लेकर देर रात तक शहर के अंदर विभिन्न चैक चैराहो पर एवं शहर के एंट्री पाइंट पर यातायात पुलिस के विभिन्न अधिकारी दुपहिया वाहन एवं छोटे माल वाहकों से यातायात निरीक्षण के नाम पर पैसे वसूलते है।

लिंक रोड से सीएमडी कालेज तक पिछले एक माह से इस तरह सीवरेज की खोदाई चल रही है कि एक ओर का मार्ग सदा बंद रहता है। उस पर भी यातायात पुलिस रोज शाम 6 बजे से रात्री 8 बजे तक बाईक लिफ्टर के माध्यम से दुपहिया वाहनों को जब्त कर रही है। इन वाहनों को क्रेन से ट्रक पर लादने के बाद थाने लेकर नही आया जाता बल्कि श्रीकांत वर्मा मार्ग पर ही आगे खड़ा कर दिया जाता है। एक एक कर बाईक चालक वहां पहंचुते है कुछ गाड़ियों पर रसीद काटी जाती है और कुछ गाड़ियों को बिना रसीद के जेब गरम करके छोड़ दिया जाता है। इसी तरह उसलापुर मार्ग पर ओवरब्रीज के बाद जैन इंटरनेशनल स्कूल तक यातायात विभाग के सिपाही खुलेआम वसूली करते है। तोरवा नाका पर भी कई दिनों से यातायात अव्यवस्थित है जिसे अंदेखा कर यातायात पुलिस हेलमेट चैकिंग पर लगी रहती है। हद तो तब हो जाती है शहर के जीरो पाइंट पर कलेकटर की ओर जाने वाले मार्ग, आने वाले मार्ग एवं रायुपर की ओर जाने वाले मार्ग पर एक साथ चैकिंग वह भी रोज सुबह 11 बजे से एक बजे के बीच होती है। यातायात पुलिस भारतीय स्टेट बैंक के बाहर अव्यवस्थित तरीके से रखे वाहनो को उचित तरीके से पार्क कराने की कोई कोशिश नही करती, उल्टे यातायात चैकिंग के नाम पर वसूली करती है।

यातायात निरीक्षक कर रहा जमकर वसूली :- यातायात निरीक्षक डीएस नेताम द्वारा आमजनता से वाहन जांच के नाम पर जमकर वसूली की जा रही है| यातायात निरीक्षक द्वारा रेलवे क्षेत्र सहित अस्पताल के आसपास वाहनों की निरंतर जांच अभियान चलाकर वाहन चालको से किसी ना किसी तरह से वाहन में कमी बताकर वाहन चालको से जमकर खुलेआम वसूली की जा रही है| सूत्रों की माने तो वाहन जांच में कमी पाए जाने पर 2 से 3 हज़ार का चालान का भय दिखाकर वाहन चालको से 500 से 1000 की वसूली की जा रही है, वसूली की रकम को एक काले रंग के बैग में जमा किया जाता है जिसका बंदरबाट भी इस वसूली में लगे सिपाहीयो और यातायात निरीक्षक द्वारा वसूली की कार्यवाही के बाद किया जाता है|

error: Content is protected !!