राज्य वनोपज व्यापार अंतर्विभागीय समिति की बैठक आयोजित

०० महुआ बीज, लाख और चिरौंजी के विक्रय दर का अनुमोदन

रायपुर| वन मंत्री महेश गागड़ा की अध्यक्षता में आज यहां विधानसभा परिषद स्थित कार्यालय कक्ष में वनोपज व्यापार के लिए गठित अंतर्विभागीय समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में राज्य लघु वनोपज सहकारी संघ द्वारा प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों के जरिए संग्रहित लघु वनोपजों के विक्रय के लिए प्राप्त विक्रय दर प्रस्तावों पर चर्चा कर अधिकतम दर का अनुमोदन किया गया।

अधिकारियों ने बैठक में बताया कि पिछले मौसम में संग्रहित किए गए महुआ बीज, कुसमी लाख दाना और चिंरौंजी गुठली खरीदने के लिए विभाग को व्यापारियों से प्रस्ताव मिले थे। वनोपज कारोबार से जुड़े अनेक व्यापारियों ने ई-नीलामी के जरिए यह प्रस्ताव दिए थे। व्यापारियों से मिले प्रस्ताव पर विस्तृत विचार-विमर्श किया गया। समिति ने महुआ बीज के लिए 1 हजार 771 रूपए प्रति क्विंटल और कुसमी लाख दाना के लिए 23 हजार 100 रुपए प्रति क्विंटल के दर का अनुमोदन किया। विभाग के गोडाऊन में फिलहाल 789 क्विंटल महुआ बीज और 80 क्विंटल कुसमी लाख दाना का स्टॉक रखा हुआ है। चिरौंजी गुठली का रेट बाजार दर से अपेक्षाकृत कम आया था। मात्र 200 रूपए प्रति किलोग्राम अधिकतम रेट मिला था, जिसके कारण इसे फिलहाज नहीं बेचने का निर्णय लिया गया। इसका 400 रुपए प्रति किलोग्राम का अपसेट दर निर्धारित करते हुए जिला यूनियनों को इस दर या इससे ऊपर विक्रय करने के लिए अधिकृत किया गया। बैठक में वन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री सी.के.खेतान, पीसीसीएफ श्री आर.के.सिंह, छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपह सहकारी संघ के प्रबंध संचालक श्री मुदित कुमार सिंह, कार्यकारी संचालक श्री कौशलेन्द्र कुमार सहित वित्त विभाग, आदिम जाति विकास विभाग, उद्योग विभाग के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

 

error: Content is protected !!