बैंक के संचालक मंडल ने किया पहला काम, सीईओ तिवारी की सेवाएं समाप्त

०० बैंक में प्रशासनिक कसावट के साथ खातेदारों के हितों का संरक्षण उनकी पहली प्राथमिकता : रजवाड़े

०० अपेक्स बैंक से आए अभिषेक तिवारी की जगह नए सीईओ एसके वर्मा को दिया गया कार्यभार

बिलासपुर। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के नए संचालक मंडल ने काम करना शुरू कर दिया है जिसका तहत पहला बड़ा काम अपेक्स बैंक से आए अभिषेक तिवारी की जगह नए सीईओ एसके वर्मा को कार्यभार दिया गया। अभिषेक तिवारी को अपने विरूद्ध होने वाले निर्णय की जानकारी शायद पूर्व में ही लग गई थी तभी वे अवकाश पर चले गए थे। आज उन्हें अपनी ड्यूटी पर पहुंचना है किन्तु उसके पहले ही उन्हें पद से हटा दिया गया।

असल में पिछले संचालक मंडल ने बैंक की सेहत खराब होने पर अपेक्स बैंक से एक बड़ी रकम लोन के रूप में ली थी। अपेक्स बैंक की एक शर्त के मुताबिक बैंक के वित्तिय प्रबंधन पर नजर रखने के लिए एक अधिकारी को अपेक्स बैंक से सहकारी बैंक भेजा गया। उसी के बाद अभिषेक तिवारी की सेवा सहकारी बैंक में चल रही थी। इस बीच संचालक मंडल भंग कर दिया गया। बैंक का प्रबंधन जिला कलेक्टर के हाथ पर आ गया, और प्रतिनियुक्ति पर आया हुआ अपेक्स बैंक का कर्मचारी सहकारी बैंक का सर्वेसर्वा बन गया। इस दौरान बैंक में लाखों की खरीदी के संदिग्ध मामलों को लेकर सीबीआई की जांच तक चल रही है। बैंक के कई कर्मचारी एवं कर्मचारी नेताओं के विरूद्ध सीबीआई ने कोर्ट के निर्देश पर नामज़द एफआईआर दर्ज की है। नए संचालक मंडल में अध्यक्ष मुन्नालाल रजवाड़े ने चर्चा में कहा की बैंक में प्रशासनिक कसावट के साथ खातेदारों के हितों का संरक्षण उनकी पहली प्राथमिक्ता होगी। सरकारी योजनाओं के तहत किसानो के लिए अधिक्तम मदद बैंक का लक्ष्य रहेगा।

error: Content is protected !!