छत्तीसगढ़ शासन के सुस्त अधिकारियों के चलते कोचियों का बढ़ा हौसला

(बालोद) राज्य शासन के निर्देशनुसार सेवा सहकारी समितियो के मार्गदर्शन में धान खरीदी की जा रही है। शासन के आदेश अनुसार किसानो से प्रति एकड़ भूमि अनुसार 15 क्विंटल धान खरीदी की जा रही है। वही दूसरी ओर सेवा सहकारी समिति अरमरीकला के फड़ क्रमांक 2 मोहारा में एक कोचीया द्वारा बेखौफ होकर नया धान की जगह पुराने धान को खपाने का असफल प्रयास किया गया था। प्रत्याशियों के अनुसार धान को देख कर अनुमान लगाया जा सकता है कि धान पुराना है। और नया धान के साथ मिला दिया गया था। वही पास खड़े किसान द्वारा पूछे जाने पर बताया गया कि धान एक कोचीया द्वारा लाया गया है। उक्त किसान द्वारा फड़ प्रभारी और समिति के अध्यक्ष को बताया गया था। लेकिन समिति द्वारा कोई प्रतिक्रिया नहीं आई तत्पश्चात दूरभाष पर उच्चआधिकारी को सूचना दीया गया था। उसके बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। जिसके चलते कोचियों का हौशाला बढ़ गया है। और निरन्तर कोचियों द्वारा धान की सप्लाई कि जा रही है।

error: Content is protected !!