भाजपा मुद्दों की राजनीति हारने पर सीबीआई को आगे करती है: पुनिया

00प्रदेश प्रभारी की उपस्थिति में हुई छ.ग. कांग्रेस, विधायक दल की बैठक 

00 पुनिया ने कहा सीबीआई में प्रदेश अध्यक्ष के विरूद्ध एफआईआर पर पुरी पार्टी बघेल के साथ

डीपी गोस्वामी

बिलासपुर। गुजरात चुनाव के परिणाम के बाद कल रायुपर में नेता प्रतिपक्ष के आवास पर कांग्रेस विधायक दल की एक बैठक हुई। हालांकि बैठक का संबंध 19 दिसंबर से शुरू होने वाला विधानसभा का शीतकालीन सत्र था। किन्तु बैठक में सत्ता पक्ष द्वारा सीबीआई का इस्तेमाल कांग्रेस के नेताओं के विरूद्ध किए जाने का मामला भी उठा। विधायकों की राय थी कि प्रदेश अध्यक्ष के विरूद्ध जिस तरह से सीबीआई ने सीडी कांड मामले में एफआईआर दर्ज की है, जिसका मुंह तोड़ जवाब सरकार को प्रत्येक स्थल पर दिया जाए। बैठक में कांग्रेस द्वारा पेश किए गए अविस्वास प्रस्ताव पर रणनीति भी बनी। किन-किन विषयों पर कौन-कौन क्या बोलेगा यह भी तय हुआ।

बैठक से हटकर वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं के बीच इस बात पर भी चर्चा हुई, की छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी से कैसे डटकर निपटा जाए। क्योंकि अब चुनाव में कुछ माह ही शेष रह गए है। सरकार के एक मंत्री के विरूद्ध सीडी बाजार में आने के बाद जिस तरह से राज्य सरकार ने तेजी से कार्यवाही कर एक वरिष्ठ पत्रकार को गिरफ्तार किया बाद में मामले की गंभीरता को देखते हुए, इस प्रकरण को सीबीआई को सौप दिया गया। सीबीआई ने इसी मामले में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के विरूद्ध एक पृथक एफआईआर दर्ज की है। इस एफआईआर पर छत्तीसगढ़ में राजनैतिक सरगर्मी तेज होने लगी है। कांग्रेस विधायक और संगठन में प्रत्येक व्यक्ति भुपेश बघेल के साथ ही हो ऐसा जरूरी नही है। किन्तु श्री पुनिया ने अपना रुख स्पष्ट किया है, और कहा की छत्तीसगढ़ की भाजपा जब मुद्दों की राजनीति में हारती है तो सीबीआई  को आगे करती है। पुरी कांग्रेस पार्टी अपने प्रदेश अध्यक्ष के साथ खड़ी है, और आने वाले चुनाव में अब भाजपा को सत्ता के बाहर करेंगे। गुजरात के परिणामों पर उन्होंने टिप्पणी करते हुए कहा कि गुजरात और छत्तीसगढ़ के मुद्दे अलग-अलग है। छत्तीसगढ़ में राजनैतिक स्थितियां अलग है। यहां हमारे प्राथमिकता स्थानीय मुद्दे होंगे। छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य का विकास नही किया बल्कि अपनी जेबें गरम की। उन्होंने कहा की राज्य सरकार के कई केबिनेट मंत्री जिनमें बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मुणत, अमर अग्रवाल, केदार कश्यप, अजय चन्द्राकर एवं स्वयं मुख्यमंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप है। तब उन प्रकरणों को सर्वोच्च जांच एजेंसी को क्यों नही सौंपा जाता ?? श्री पुनिया ने कहा की गुजरात में भाजपा ने स्वयं 150 सीट का दावा किया था और कांग्रेस के खिलाफ स्वयं प्रधानमंत्री उनका पुरा मंत्री मंडल साथ ही भाजपा शाषित राज्यों के मुख्यमंत्री तथा कई कैबिनेट मंत्री गुजरात में चुनाव प्रचार कर रहे थे। तब 150 सीट क्यों नही आई ? इस तरह गुजरात में कांग्रेस पार्टी के नैतिक जीत हुई है और इसके लिए पार्टी अध्यक्ष राहूल गांधी को पुरा श्रेय जाता है।

गुजरात चुनाव में हुई कांग्रेस पार्टी की नैतिक जीत : प्रदेश प्रभारी पुनिया ने कहा कि गुजरात चुनाव में देश के 18 राज्यों के मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री सहित भाजपा के पूरे संगठन ने मिलकर जमकर प्रचार-प्रसार किया था साथ ही चुनाव में 150 सीट जीतने की बात भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कही थी मगर इस चुनाव में भाजपा को बहुत ही कम सीटे मिली जो कि गुजरात में कांग्रेस पार्टी की नैतिक जीत हुई है और इसके लिए पार्टी अध्यक्ष राहूल गांधी को पुरा श्रेय जाता है।

पत्रकार विनोद वर्मा मामले में सीबीआई जांच अधिकारी है क्षेत्रपाल सिंह :- सीबीआई के डीएसपी क्षेत्रपाल सिंह को प्रदेश के बहुचर्चित सीडीकांड मामले में जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है, पत्रकार विनोद वर्मा इस सीडीकांड में आरोपी बनाये गए है जिसकी जांच सीबीआई के डीएसपी क्षेत्रपाल सिंह कर रहे है| गौरतलब है कि 2010 में बिलासपुर के पत्रकार सुशील पाठक की हत्या हुई थी। इस चर्चित हत्याकांड की जांच की जिम्मेदारी सीबीआई को सौंपी गई। जांच के दौरान ही सीबीआई के कुछ अधिकारियों पर रिश्वत मांगने का आरोप लगा और उनके ऊपर मुकदमा चल रहा है। भ्रष्टाचार के मामले में ही आरोपी रामबहादुर नांगर को प्रार्थी बनाया गया औऱ हत्याकांड के केस में बाद में आरोपी बनाया गया। सीबीआई ने 5 सितंबर 2011 को एफआईआर पंजीबद्ध किया था जिसकी जांच स्पेशल क्राइम ब्रांच पार्ट-2 नई दिल्ली की टीम ने की थी। सीबीआई के डीएसपी रिछपाल सिंह ने मामले में क्लोजर रिपोर्ट पेश कर प्रकरण में जब्त दस्तावेजों को संबंधित लोगों को लौटाने का आग्रह भी अदालत से किया गया था। सोमवार को सीबीआई की कोर्ट ने क्लोजर रिपोर्ट को स्वीकार करते हुए आरोपी रामबहादुर नांगर, राजेश ठक्कर और शेख बशीर उर्फ बादल खान को आरोप से मुक्त कर दिया है।

error: Content is protected !!