विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ संस्कार भी सिखाते हैं सरस्वती शिशु मंदिर : डॉ रमन सिंह

०० मुख्यमंत्री ने तीन दिवसीय प्रांतीय बालिका शिविर का किया शुभारंभ

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने आज बिलासपुर में कोनी स्थित सरस्वती शिक्षा संस्थान द्वारा आयोजित प्रांतीय बालिका शिविर का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि सरस्वती शिशु मंदिर में शिक्षा के साथ संस्कार भी सिखाये जाते हैं। संस्कार ही हमारी संस्कृति को आगे बढ़ाते हैं। स्वच्छता अभियान को आगे बढ़ाने में यहां के विद्यार्थी अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं।
डॉ सिंह ने कहा-पढ़ाई के साथ-साथ समाज को जागरूक करने की भी आपकी जिम्मेदारी है। बच्चों को समाज में स्वच्छता और वृृक्षारोपण की आवश्यकता के संबंध में देना चाहिए। उन्होंने बच्चों से कहा कि वे खेलकूद में भी पर्याप्त समय दें, क्योंकि खेलने कूदने से शारीरिक विकास तो होता ही है साथ ही खेल के क्षेत्र में करियर भी बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि ओलंपिक में हमारे देश की बेटियां ही मेडल लेकर आई हैं। सेना में फायटर प्लेन भी चला रही हैं। छात्राओं को संबोधित करते हुए डॉ सिंह ने बताया कि उनके दोनों बच्चे दसवीं तक सरस्वती शिशु मंदिर में ही पढ़े हैं। यहां पर अनुशासन, संस्कार और शिक्षा का बेहतरीन समावेशन होता है। उन्होंने छात्राओं से प्रतिदिन योग करने की अपील करते हुये कहा कि योग से याददाश्त तेज होती है। डॉ सिंह ने कहा कि असफलता से कभी निराश नहीं होना चाहिये बल्कि असफलता को भी खुशी-खुशी स्वीकार करना चाहिये। असफलता ही सफल होने की पहली सीढ़ी है। विद्यार्थियों को प्रत्येक क्षण जीना चाहिये। जो भी आपका लक्ष्य है उसी के अनुरूप अपनी दिनचर्या बनाएं, सफलता अवश्य मिलेगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्राचार्य कक्ष का लोकार्पण भी किया। साथ ही विद्यालय के छात्रावास के लिये 25 लाख रुपये अनुदान देने की घोषणा भी की। इस कार्यक्रम में कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अमर अग्रवाल, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू, सांसद श्री लखनलाल साहू, श्री प्रफुल्ल शर्मा एवं प्रदेश भर से आयीं छात्रायें एवं शिक्षक-शिक्षिकायें उपस्थित थी।

 

 

error: Content is protected !!