जर्जर स्थिति में नवनिर्मित शासकीय हाईस्कूल भवन धूमा

०० बिजली, शौचालय, पेयजल सहित मूलभूत सुविधाओ को तरसते छात्र-छात्राए

करगीरोड कोटा| कोटा विकासखंड के ग्राम पंचायत धूमा में नवनिर्मित निर्माण भवन शासकीय हाई स्कूल जो कि महज 1 वर्ष हो चुके है लेकिन उस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे अभी भी पुराने स्कूल में ही पढ़ाई कर रहे हैं और शिक्षा के अधिकार के लिए अभी भी वंचित है वहां नाही बिजली, शौचालय, पेयजल कोई भी प्रकार की मूलभूत सुविधाएं उन बच्चों को नहीं मिल पा रहे है ग्राम पंचायत धुमा हाईस्कूल जो कि नवनिर्मित निर्माण तो कर दिया गया है लेकिन बच्चे पुराने स्कूल में ही पढ़ाई कर रहे हैं स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे एक ही टेबल पर बैठने को मजबूर  एक टेबल पर चार से पांच बच्चे बैठने को मजबूर है उस स्कूल को हैंड ओवर तो कर दिया गया है लेकिन अधिकारियों की मनमानी से स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे शिक्षा पाने के लिए तरस रहे हैं शासकीय हाईस्कूल धूमा जो अभी साल भर भी नहीं हुआ है निर्माण हुए वहां की स्थिति जर्जर होने लगी है और कई जगह तो दीवारो में भी दरारें आने लगी है
शासकीय हाईस्कूल धूमा जो कि अभी अभी नव निर्माण किया गया है यह स्कूल राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा शुद्धिकरण के तहत उस स्कूल को बनाये गये है शासन के निर्देश देने के बावजूद भी वहां की स्थिति अभी भी सुधर नहीं पाया इस कारण से जर्जर की स्थिति में आने लगे है जिला शिक्षा अधिकारी बिलासपुर हेमंत उपाध्याय ने शासकीय हाईस्कूल धूमा के प्रिंसिपल एम एल नवरंगे को भी निर्देशित किये है कि जो भी करो जैसा भी करो वहां की स्थिति को तत्काल मुझे 1 हफ्ते के अंदर उस स्कूल में मूलभूत सुविधाएं  होनी चाहिए  और उन बच्चों को नवनिर्मित हाईस्कूल भवन में Swift किया जाए जिससे कि उनकी शिक्षा पर कोई भी प्रकार की कमी ना हो और जनपद पंचायत कोटा के सीईओ को भी निर्देशित किये है कि शासकीय हाईस्कूल धूमा में पेयजल बिजली शौचालय की व्यवस्था तत्काल किया जाए ताकि उन बच्चों को सुविधा मिल सके| शासकीय हाईस्कूल धूमा जो कि अभी 1 साल भी पूर्ण नहीं हुआ है बना हुआ लेकिन वहां की दीवारें ऐसे फट गए हैं कि आने वाले समय में गिर भी सकते हैं यह स्कूल राष्ट्रीय शिक्षा अभियान के तहत 2015 16 में स्वीकृत हुआ था और इनकी राशि 29 लाख 79 हजार रुपए मिले थे उनके बावजूद भी ठेकेदार मनीष गुप्ता के द्वारा उस भवन को निर्माण किया गया है गुणवत्ताहिन मटेरियल की कमी से दीवारों में दरारें आने लगे हैं जोकि यही स्कूल 2 साल के लिए गारंटी परेड में होने के बावजूद भी यह स्थिति है तो आने वाले समय में उनकी स्थिति और भी जर्जर हो सकती है
अगर वहाँ की स्थिति जर्जर है तो निर्माण एजेंसी ही इसके जिम्मेदार होगा ग्राम पंचायत धुमा के सरपंच चिंताराम ध्रुव को यह भी मालूम नहीं है कि शासकीय हाईस्कूल धुमा हेंड ओवर हुआ है कि नही और जब मीडिया ने जनपद पंचायत कोटा के सीईओ को संज्ञान दिलाया गया तब जाकर उनके द्वारा सरपंच को 14 वे वित्त की राशि से शासकीय हाईस्कूल धूमा में बिजली पेयजल शौचालय की यवस्था किया जाए क्योंकि उस स्कूल में आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से भी छात्र छात्राओं  भी उस शासकीय हाईस्कूल धूमा पढ़ने आते हैं, वही जनपद पंचायत कोटा के सब इंजीनियर बलराम गुप्ता ने बतलाया है कि शासकीय हाई स्कूल घूमा में शौचालय का हमारे यह बनाने का स्टमेन्ट नही है ये सब जिला पंचायत बिलासपुर को ही इसके बारे में जानकारी होगी।

error: Content is protected !!