कांग्रेस ने किया निगम की कार्यवाही का विरोध, गुमटियों के व्यस्थापन की मांग

बिलासपुर|  कांग्रेसियों ने जिला प्रशासन से विस्थापित गुमटी वालों के लिए मुआवजे की मांग की है। जिला प्रशासन को कांग्रेसी प्रतिनिधिमंडल ने बताया कि निगम और पुलिस प्रशासन ने बल प्रयोग से एक तरफा कार्रवाई कर गुमटियों को हटाया है। जहां जगह दी जा रही है वह स्थान अरपा विकास प्राधिकरण का हिस्सा है। ऐसे में कुछ साल बाद गुमटी को वर्तमान जगह से भी हटा दिया जाएगा। इसलिए जरूरी है कि विस्थापित गुमटी वालों को स्थायी जगह दी जाए।

कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने आज जिला कार्यालय पहुंचकर विस्थापित गुमटी वालों के लिए समुचित व्यवस्थापन की मांग की है। कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने जिला प्रशासन को बताया कि एक तरफा कार्रवाई से गुमटी वालों को आर्थिक नुकसान हुआ है। इसलिए सभी मुमटी वालों को मुआवाजा भी दी जाए। प्रतिनिधि मंडल में वरिष्ठ कांग्रेस नेता शिवा मिश्रा, विजय पाण्डेय, नरेन्द्र बोलर, शेख नजरूद्दीन, शैलेन्द्र जायसवाल, विक्की आहुजा, युवा नेता जावेद मेमन शामिल थे। कांग्रेसियों ने बताया कि सिटी कोतवाली के सामने सभी गुमटियां चालिस साल से अधिक समय से है। लेकिन निगम प्रशासन ने सभी गुमटियों को बल पूर्वक हटा दिया। जिसके चलते गुमटी वालों को भारी नुकसान हुआ है।कांग्रेसियों ने बताया कि विस्थापित लोगों के परिवार का भरम पोषण गुमटी से ही होता है। कार्रवाई के दौरान निगम प्रशासन ने सामानों को बेतरतीब तरीके से फेंका। कांग्रेसियों ने कहा कि जिस स्थान पर गुमटी लगाने को कहा जा रहा है वह क्षेत्र अरपा विकास प्राधिकरण में आता है। भविष्य में गुमटियों को हटना निश्चित है। ऐसी स्थिति में गुमटी संचालकों पर फिर से कार्रवाई होगी। कुछ ऐसी व्यवस्था की जाए कि गुमटियों को भविष्य में हटाना ना पड़े।जिला प्रशासन निगम आयुक्त को निर्देश दे कि गुमटी वालों के साथ बैठक कर नए स्थान का चयन करें।

error: Content is protected !!