लोक निर्माण विभाग द्वारा निर्मित सडको की बदहाल एवं जर्जर हालत

मुंगेली – जिले में लोक निर्माण विभाग द्वारा कराये गये निर्माण कार्यो में भारी अनिमित्ताये है नियमो को ताक में रखकर कराये गये इन निर्माण कार्यो में अनेक सडको की हालत जर्जर एवं बदहाल हो गई है। शिकायतो के बाद भी इन पर सुधार कार्य नही कराये जाते साथ ही प्रशासनिक उपेक्षाओं के चलते तय सीमा पर इन सडको का कार्य भी नही कराया जा सका है।
प्रदेश में विकास के 14 वर्ष बडे धूमधाम से मनाया जा रहा है विकास की गाथा का बखान सरकार द्वारा विभिन्न माध्यमों से लोगो तक पहुचाया जा रहा है जिले में हुई 14 वर्ष पूर्ण होने पर विकास के 14 वर्ष का कार्यक्रम रखा गया है। विकास के कोशो दूर इस जिले में रखे गये इस कार्यक्रम में आम जन की क्षीण उपस्थिति विकास की हकिकत बयान कर रही थी । जिले में विकास के लिए शासन से करोडो रूपये अनेक कार्य के लिए आबंटित हुए किंतु प्रशासनिक उपेक्षाओं अधिकारियो एवं कर्मचारियों की लापरवाही के चलते अनेक कार्य मुख्यमंत्री से लोकार्पण के बाद भी आज तक अनेक कार्य प्रारंभ नही हो पाये है । सरकार जिले में सडको का जाल बिछाने का दावा करती है किंतु हकिकत कुछ और ही है। पुंराने जिले से नये जिले को जोडने वाले मुख्य सडक तथा बस स्टैण्ड से नवागढ जाने वाली सडक और सरस्वती शिशु मंदिर जाने वाली सडक एवं जिला अस्पताल एपरोच रोड 500 मीटर तक भ्रष्टाचार के भेट चढ गये है । गुणवत्ता विहिन इन सडको में अभी से दरार आ गई है, और यह सडक समय पूर्व ही उखडने लगी है । साथ ही निर्धारित समय पर सडक का निमार्ण न कर सरकार को आर्थिक क्षति भी पहुचाई जा रही है। गीधा से पंडरिया निकलने वाले बाईपास रोड में ठेकेदार को फायदा पहुचाने के लिए रिवाईज एवं री टेंडर का खेल खेल कर सरकार को आर्थिक क्षति पहुचाई जा रही है।
बदहाल सडको के कारण हो रहे हादसे – जिले में लोक निर्माण विभाग द्वारा बनाये जा रहे गुणवत्ता विहिन सडको के चलते जहा नागरिको में भारी नाराजगी देखी जा रही है। वही नगर में दुर्धटनाओं की संख्या में इजाफा हुआ है। जर्जर सडक में आये दिन गंभीर दुर्धटनाये घट रही है । आम नागरिको द्वारा इस सबंध में अधिकारियों को जानकारी देने के बाद भी सार्थक पहल न होने के कारण न तो सडको की व्यवस्था सुधारी जा रही है और न ही दुर्धटनाओं में कमी आई है ।

error: Content is protected !!