हाथी वास्तव में हरियाली का प्रतीक, नियंत्रण के लिए किए जा रहे उपाय : डॉ रमन सिंह

०० किसी भी थर्ड जेंडर को नौकरी नहीं निकाला जा सकता: डॉ. सिंह

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि सिर्फ थर्ड जेंडर का होने के कारण किसी भी व्यक्ति को किसी भी नौकरी से नहीं निकाला जा सकता। उन्होंने कहा कि तृतीय लिंग समुदाय भी हमारे मानव समाज का एक हिस्सा हैं। उनके साथ भी समानता का व्यवहार होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने आज रात यहां अपने निवास परिसर में वरिष्ठ पत्रकारों से चर्चा करते हुए यह बात कही।
डॉ. सिंह ने कहा छत्तीसगढ़ में जंगली हाथी अन्य राज्यों से आ रहे हैं। खास तौर पर पड़ोसी राज्य झारखण्ड और ओडि़शा से उनका यहां आना-जाना चल रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा हाथी वास्तव में हरियाली का प्रतीक हैं, लेकिन उनके द्वारा जनधन को नुकसान पहुंचाए जाने पर राज्य सरकार भी चिंतित है और उन पर नियंत्रण के लिए उपाय किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कर्नाटक और तमिलनाडु के जंगलों में 700 से 800 की संख्या में हाथी विचरण करते हैं। वहां के लोगों ने हाथियों के साथ रहना सीख लिया है। छत्तीसगढ़ सरकार ने जंगली हाथियों पर नियंत्रण करने और उनके समुचित व्यवस्थापन के लिए कर्नाटक से प्रशिक्षित लोगों की टीम बुलाने का निर्णय लिया है। हाथियों के कारण हो रहे नुकसान पर प्रभावित परिवारों को वन विभाग द्वारा समुचित सहायता भी दी जा रही है।

 

error: Content is protected !!