केंद्रीय मंत्री ओरम का बयान भाजपा की आदिवासी विकास विरोधी सोच को उजागर करता है : अमित जोगी

०० जोगी ने मुख्यमंत्री से पूछा – क्या आदिवासी अपने अधिकारों के लिए लड़ना छोड़ नाच गाना करें ?

रायपुर| मरवाही विधायक अमित जोगी ने केंद्रीय जनजातीय कार्यमंत्री जुएल ओराम द्वारा मुख्यमंत्री की उपस्थिति में कल साइंस कॉलेज रायपुर में दिए गए विवादास्पद भाषण पर कड़ी आपत्ति जताई है, जिसमे उन्होंने “आदिवासियों को विकास से नहीं बल्कि मिलने और नाच गाने से खुश रखा जाता है” की बात कही थी। अमित जोगी ने कहा कि केंद्रीय मंत्री के ऐसे बोल, भाजपा की आदिवासी विकास विरोधी सोच का ही परिणाम है।

जोगी ने कहा कि, चाहे बस्तर में पोलावरम बाँध से प्रभावित आदिवासी जनजातियों को संरक्षण देने का मामला हो या फिर सरगुजा में वन अधिकार से वंचित आदिवासियों को पट्टे देने का मुद्दा हो, भारतीय जनता पार्टी ने आदिवासियों को धोखा दिया और आंध्रा और अदानी का साथ दिया है। अमित जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में तिहार के नाम पर नाच गाना कर, करोड़ों रूपया खर्च कर केवल आम और गरीब जनता को भ्रमित करने का प्रयास किया जा रहा है। प्रदेश में आदिवासियों का विकास नहीं विनाश हुआ है। जोगी ने मुख्यमंत्री से पूछा कि क्या भाजपा यह चाहती है कि छत्तीसगढ़ के शोषित और प्रभावित आदिवासी अपने अधिकारों की लड़ाई छोड़ नाच गाना करें। जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़ के आदिवासियों का विकास जोगी सरकार में ही संभव है ये बात आदिवासी भी जान गए हैं। प्रदेश का आदिवासी वर्ग सत्ता पलट के लिए तैयार है।

 

error: Content is protected !!