छह माह में लगभग सात लाख घरों में बिजली कनेक्शन देने का लक्ष्य: डॉ. रमन सिंह

०० मुख्यमंत्री शामिल हुए धरमजयगढ़ में आयोजित तेन्दूपत्ता बोनस तिहार में

०० एक लाख 20 हजार से अधिक संग्रहकों को ऑनलाइन बांटा 45.20 करोड़ का बोनस

०० कोरजा व्यपवर्तन योजना और बायसी विद्युत उपकेन्द्र का शिलान्यास

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि छह माह में प्रधानमंत्री की सौभाग्य योजना के अंतर्गत प्रदेश के लगभग सात लाख घरों में बिजली के कनेक्शन देने का लक्ष्य है। हर गांव और हर मजरेटोले तक बिजली पहुंचायी जाएगी। मुख्यमंत्री आज रायगढ़ जिले के धरमजयगढ़ विकासखण्ड मुख्यालय में आयोजित तेन्दूपत्ता तिहार को सम्बोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर रायगढ़ और कोरबा जिले की 149 प्राथमिक वनोंपज सहकारी समितियों के एक लाख 20 हजार से अधिक तेन्दूपत्ता संग्रहकों को 45 करोड़ 20 लाख रूपए से अधिक बोनस राशि ऑनलाइन वितरित की।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर लगभग सात करोड़ 82 लाख रूपए की लागत से बनने वाली कोरजा व्यपवर्तन योजना और एक करोड़ 45 लाख रूपए की लागत से बायसी में बनने वाले 33/11 केवी क्षमता के विद्युत उपकेन्द्र का शिलान्यास और लगभग 97 लाख रूपए की लागत से नवनिर्मित 50 सीटर बिरहोर आदिवासी बालक आश्रम चटकपुर का लोकार्पण किया। डॉ. सिंह ने कार्यक्रम में विभिन्न विभागों की कल्याणकारी योजनाओं के अंतर्गत सवा लाख से अधिक हितग्राहियों को 31 करोड़ 36 लाख  की सामग्री और सहायता राशि के चेक वितरित किए। कार्यक्रम में केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री श्री विष्णुदेव साय, छत्तीसगढ़ के वन मंत्री श्री महेश गागड़ा, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू, विधायक श्री रोशनलाल अग्रवाल और श्रीमती केराबाई मनहर, लोकसभा सांसद डॉ. बंशीलाल महतो और संसदीय सचिव श्रीमती सुनिता राठिया विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थी।मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य आज देश का तेजी से विकसित होता राज्य है। अन्तर्राष्ट्रीय रेटिन एजेंसी ने छत्तीसगढ़ को गुजरात और हरियाणा के साथ सबसे तेज विकास दर और सबसे बेहतर आर्थिक प्रबंधन वाले राज्य के साथ शामिल किया है। मुख्यमंत्री ने तेन्दूपत्ता संग्रहकों के जीवनस्तर को बेहतर बनाने के लिए राज्य सरकार द्वारा संचालित की जा रही योजनाओं की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि रायगढ़ जिले में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के अंतगर्त अब तक गरीब परिवारों की 80 हजार महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन 200 रूपए के पंजीयन शुल्क पर दिए गए है। अगले वर्ष में 80 हजार महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने सभी लोगों से मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के स्मार्टकार्ड बनवाने का आग्रह करते हुए कहा कि इस स्मार्ट कार्ड से अब चुने हुए अस्पतालों मंे 50 हजार रूपए तक का इलाज निःशुल्क कराया जा सकता है। उन्होंने संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने के लिए महतारी एक्सप्रेस योजना, तीर्थ यात्रा योजना, मुख्यमंत्री खाद्य एवं पेाषण सुरक्षा योजना, मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना की जानकारी भी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सौर सुजला योजना के अंतर्गत  लगभग 50 हजार किसानों को सौर सिंचाई पम्प अनुदान पर दिए जाएंगे।डॉ. सिंह ने कार्यक्रम में रेशम विभाग के 70 हितग्राहियों को 14 लाख 30 हजार रुपए की कोसाफल उत्पादन राशि, कृषि विभाग के अंतर्गत 79 हितग्राहियों को 25 हजार रुपए की लागत के बीज मिनीकिट (मसूर, सरसों एव उड़द), उद्यान विभाग के अंतर्गत 150 हितग्राहियों को 1 लाख 88 हजार रुपए की लागत के हाईब्रिड सब्जी मिनीकिट, पशु चिकित्सा विभाग के अंतर्गत 29 हितग्राहियों को 87 हजार रुपए की लागत के चूजे एवं कुक्कुट आहार, रोजगार कार्यालय के 10 हितग्राहियों को मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत प्रमाण-पत्र, स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत  एक लाख 23 हजार से अधिक हितग्राहियों को 3 करोड़ 69 लाख रुपए की लागत की मेडिकेटेड मच्छरदानी तथा 12 हितग्राहियों को 96 लाख रुपए की लागत से स्वास्थ्य पंचायत पुरस्कार, क्रेडा के 15 हितग्राहियों को मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना (सोलर इलेक्ट्रिक सिस्टम इंस्टालर एण्ड सर्विस प्रोवाइडर) के तहत सर्टिफिकेट  और जॉब आर्डर, महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत 250 आंगनबाड़ी केन्द्रों में गैस कनेक्शन वितरित किए। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह श्रम विभाग के 1399 हितग्राहियों को 75 लाख 26 हजार रुपए की लागत की सामग्री एवं चेक तथा समाज कल्याण विभाग के 31 हितग्राहियों को राष्ट्रीय परिवार सहायता योजना एवं दिव्यांग प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत 7 लाख रुपए की सहायता राशि के चेक वितरित किए। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज सहकारी संघ के अध्यक्ष श्री भरत साय सहित अनेक जनप्रतिनिधि, वरिष्ठ अधिकारी और ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

 

 

error: Content is protected !!