जनदर्शन : मुख्यमंत्री से एक हजार से ज्यादा लोगों ने की मुलाकात

०० मुख्यमंत्री ने 32 लाख रूपए की लागत के आठ निर्माण कार्य की दी मंजूरी

०० गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए 32 मरीजों को मिलेगी संजीवनी कोष से मदद

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपने निवास पर आयोजित जनदर्शन कार्यक्रम में आम जनता की समस्याएं सुनी और समस्याओं के  निराकरण के लिए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी किए।डॉ. सिंह से जांजगीर-चांपा जिले के मालखरौदा विकासखण्ड के ग्राम कुरदा से आए अखिल भारतीय रामनामी महासभा के प्रतिनिधि मण्डल ने मुलाकात की। उन्होंने ग्राम कुरदा में अगले माह की 28 से 30 तारीख तक आयोजित किए जा रहे अखिल भारतीय रामनामी महासभा के सम्मेलन और राम भजन मेले में मुख्य अतिथि के रुप में शामिल होने का आमंत्रण दिया। उन्होंने बताया कि इस वर्ष मेले का 109 वां वर्ष है। मुख्यमंत्री ने आमंत्रण के लिए प्रतिनिधि मण्डल को धन्यवाद देते हुए कार्यक्रम की सफलता के लिए शुभकामनाएं दीं। प्रतिनिधि मण्डल में अखिल भारतीय रामनामी महासभा के अध्यक्ष श्री गौतम प्रसाद, महामंत्री श्री जगतराम, सचिव श्री गंगाराम सहित आचार्य मेहत्तर राम और केदारनाथ भी शामिल थे।
मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों और प्रतिनिधि मण्डलों के आग्रह पर 32 लाख रुपए की लागत के सीमेंट कांक्रीट सड़क निर्माण के 8 कार्यों की स्वीकृति प्रदान कर दी। उन्होंने गंभीर मरीजों के इलाज के लिए 32 मरीजों को संजीवनी कोष से सहायता राशि मंजूर की। उनके निर्देश पर 34 मरीजों को राजधानी रायपुर स्थित अंबेडकर चिकित्सालय भेजा गया। जनदर्शन स्थल पर मेडिकल कॉलेज के स्टाल में 60 लोगों का रक्त परीक्षण करके मधुमेह और सिकलिंग की जांच की गयी। मुख्यमंत्री से महासमंुद जिले के सरायपाली विकासखण्ड के ग्राम बोडेसरा से आए ग्रामीणों ने गांव के निस्तारी तालाब के गहरीकरण कराने का आग्रह किया। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि इस तालाब के पानी से लगभग 300 एकड़ में सिंचाई की जा सकती है। मुख्यमंत्री ने जल संसाधन विभाग के सचिव को ग्रामीणों के आवेदन का परीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश जारी किए हैं। कबीरधाम जिले के ग्राम अचानकपुर से आए ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके गांव से होकर गुजरने वाली विरेन्द्र नगर – गोछिया सड़क के चौड़ीकरण का काम स्वीकृत हो गया है। इस सड़क का निर्माण प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत किया गया था। ग्रामीणों ने ग्राम अचानकपुर के बाहर बायपास सड़क के रूप में बनी डब्ल्यू बी.एम. सड़क से होकर विरेन्द्र नगर-गोछिया का मार्ग परिवर्तित कराने का आग्रह किया। उन्होंने बताया कि यदि यह सड़क गांव से बाहर से जाएगी तो लगभग 500 मीटर अतिरिक्त लंबाई में सड़क बनानी पड़ेगी। मुख्यमंत्री ने उनके आवेदन का परीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। रायपुर जिले के अभनपुर विकासखंड की ग्राम पंचायत जुलुम से आए ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल ने गांव में नलजल योजना के लिए पानी टंकी का निर्माण कराने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री के निर्देश पर उनका आवेदन आवश्यक कार्रवाई के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के सचिव को भेजा गया है।
बलौदाबाजार जिले के पलारी विकासखंड के ग्राम अमेरा से आए अखिल भारतीय राजमहंत संघ सतनामी समाज के प्रतिनिधि मंडल ने ग्राम अमेरा के अधूरे सामुदायिक भवन के लिए आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने का मुख्यमंत्री से आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने सामुदायिक भवन के लिए दस लाख रूपए की स्वीकृति स्वेच्छानुदान से प्रदान की। जांजगीर-चांपा जिले के जैजैपुर विकासखंड की ग्राम पंचायत चोरभठ्टी से आए ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनकी ग्राम पंचायत खुले में शौचमुक्त हो चुकी है। उन्होंने चोरभठ्टी में नाली निर्माण कराने का आग्रह किया। उनका आवेदन आवश्यक कार्रवाई के लिए कलेक्टर जांजगीर-चांपा को भेजा गया है। अभनपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत आमदी से आए ग्रामीणों ने आमदी में नलजल योजना के लिए आवेदन दिया। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत आमदी को इस वर्ष सात अप्रैल को खुले में शौचमुक्त घोषित कर दिया गया है। उनका आवेदन लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को उचित कार्रवाई के लिए भेजा गया है।

 

 

error: Content is protected !!