सीडी कांड: पत्रकार विनोद वर्मा 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल दाखिल

रायपुर| छत्तीसगढ़ के मंत्री राजेश मूणत के कथित सेक्स सीडी कांड में गिरफ्तार पत्रकार विनोद वर्मा को एक बार फिर 11 दिसंबर तक के लिए 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। रायपुर पुलिस ने सोमवार विनोद वर्मा को जेएमएफसी भावेश वटी की कोर्ट में पेश किया गया।

कोर्ट में बचाव पक्ष की ओर से धारा 156 3 के तहत लगाए गए आवेदन का पुलिस ने जवाब पेश किया। विनोद वर्मा के वकील पुलिस द्वारा पेश किए गए जवाब के खिलाफ कोर्ट में 5 तारीख को अपना पक्ष कोर्ट के समक्ष रखेंगे। विनोद वर्मा के वकील ने बताया कि पुलिस द्वारा पेश किए गए जवाब की कॉपी नहीं मिल पाई है। इसका अध्ययन करने के बाद कोर्ट में इसके खिलाफ अपील की जाएगी। इसमें पुलिस के जवाब के खिलाफ वह अपना पक्ष रखेंगे। इससे पहले सेक्स सीडी कांड में गिरफ्तार पत्रकार विनोद वर्मा के बेटे ने छत्तीसगढ़ पुलिस के खिलाफ गाजियाबाद जिले के इंदिरापुरम थाने में 21 नवंबर को ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराने के बाद छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में न्याय की गुहार लगाते हुए याचिका दायर की है। उन्होंने कहा है कि पिता को छत्तीसगढ़ पुलिस ने जानबूझकर फंसाया है। सेक्स सीडी कांड से उनके पिता विनोद वर्मा का कोई लेना-देना नहीं है। इस मामले में पुलिस ने साक्ष्यों से छेड़छाड़ की है और जबरन मामले में घसीटा है। 21 नवंबर को शिकायत दर्ज कराने के बाद भी गाजियाबाद पुलिस ने अबतक एफआईआर नहीं की है। अधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा के माध्यम से दायर याचिका में विनोद वर्मा के बेटे पुनर्वसु ने आरोप लगाया है कि छत्तीसगढ़ पुलिस ने बड़े राजनैतिक षडयंत्र के तहत उनके पिता को झूठे आरोपों में फंसाया है। पुलिस ने गाजियाबाद स्थित उनकी कॉलोनी के एंट्री रजिस्टरों और सीसीटीवी फुटेज को 15 दिनों तक लगातार देखा। जब मेरे वकील ने मुझसे इस रिकार्ड की कापी मांगी तो कालोनी प्रबंधन से संपर्क कर मैंने कापी देने की मांग की।

error: Content is protected !!