शिवनाथ नदी पर निर्माणाधीन पुल निर्माण में ठेकेदार कर रहा मनमानी

०० पीडब्लूडी के अधिकारियो के काम रोकने के आदेश के बाद भी जबरन कर रहा निर्माण कार्य  

बिलासपुर।मस्तुरी विकासखंड के ग्राम मनवा से बलौदाबाजार जिले के कसडोल को जोड़ने शिवनाथ नदी पर एक नया पुल का निर्माण पीडब्लूडी विभाग द्वारा कराया जा रहा है, मगर इस निर्माण के ठेकेदार द्वारा जमकर मनमानी कर गुणवत्ताहीन निर्माण सामग्रियों सहित ब्रिज का निर्माण किया जा रहा है जिसकी जांच के बाद पीडब्लूडी विभाग के अधिकारियो द्वारा निर्माण कार्य पर रोक लगाया दिया गया मगर ठेकेदार द्वारा मनमानी कर इस निर्माण कार्य को पुनः किया जा रहा है|ठेकेदार की मनमानी से लोक निर्माण विभाग के अधिकारी सहित ग्राम पंचायत मनवा के सरपंच व ग्रामीण भी परेशान है, इस मामले को लेकर ठेकेदार से सरपंच व अधिकारियो द्वारा विरोध किये जाने पर ठेकेदार द्वारा मंत्री की धौस देकर गुंडागर्दी भी की जा रही है|

राज्य की जीवन रेखा शिवनाथ नदी पर एक नया पुल का निर्माण हो रहा है। जो मस्तुरी ब्लाक के ग्राम मनवा से बलौदाबाजार जिले के कसडोल  को जोड़ेगा। ब्रीज का कार्य पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा कराया जा रहा है। ठेकेदार विभाग पर इस तरह भारी है कि विभाग द्वारा कार्य पर रोक लगाए जाने के बाद भी ठेकेदार द्वारा गुंडागर्दी पूर्वक कार्य किया जा रहा है। विभाग ने यह काम अशोक मित्तल  जो कि ए-3 श्रेणी के ठेकेदार को दिया है। ठेकेदार के गुणवत्ताविहिन कार्य की शिकायत विभाग के उप अभियंता एवं एसडीओ ने स्वयं की थी। उच्च अधिकारियों द्वारा काम में घटिया स्तर  को देखते हुए इस पर रोक का निर्देश दे दिया गया है किन्तु ठेकेदार काम को नही रोका जा रहा हैं। यहां तक की विभाग ने मुरूम डालने से भी मना भी किया है। किन्तु ठेकेदार बिना मिट्टी  परिक्षण कराए अन्य गांव से मिट्टी लेकर निर्माण स्थल पर डाला जा रहा है। यह पुरी मुरूम,एवं मिट्टी बिना रायल्टी के  खोदाई कर लाई जा रही है। वहीं जिस ग्राम पंचायत (मनवा) में यह कार्य का निर्माण चल रहा है वहां के सुखे तालाब की मिट्टी को उपयोग में नही लाया जा रहा है। मनवा गांव के सरपंच का कहना है कि करोड़ों की लागत से पुल का काम चल रहा है। किन्तु गांव के एक भी नागरिक को रोजगार का अवसर नही मिला। युपी बिहार के मजदूरों को काम पर रख कर ग्राम पंचायत मनवा  के मजदूरों को बाहर का रस्ता दिखाया गया। बाहरी मजदूरों के बड़ी संख्यां में काम करने से इस छोटे से गांव का वातावरण खराब हो रहा है। वहा के सरपंच का कहना हैं, की खास तौर पर हमारे मस्तूरी छेत्र में अकाल छाया हुआ है,जिसके बाद भी इस इस ठेकेदार द्वारा गुंडागर्दी कर बाहरी लोगों से कार्य लिया जा रहा हैं|

पीडब्लूडी ने किया गुणवत्ताहीन कार्य की मार्किंग :-  लोक निर्माण विभाग के अधिकारियो ने ब्रिज निर्माण की जांच में गुणवत्ताहीन कार्यो को क्रॉस का मार्किंग कर कार्य पर रोक लगाया था, मगर ठेकेदार द्वारा अधिकारियो के आदेश को दरकिनार कर मार्किंग वाले निर्माण पर ही कार्य किया जा रहा है साथ ही उस स्थान को गुणवत्ताहीन मिट्टी से भरकर लीपापोती करने में जुटा हुआ है| अधिकारियो द्वारा ठेकेदार को काम रोकने का आदेश दिए जाने के बाद भी कार्य किया जाना सीधे-सीधे इस निर्माण कार्य में राजनीतिकरण किया जा रहा है|

ठेकेदार है ब्लैक लिस्टेड :- बिलासपुर जिले की पीडब्ल्यूडी ने कोरबा के अशोक मित्तल नाम के ठेकेदार को काम दिया है। यह ठेकेदार कोरबा में ब्लैक लिस्टेड  में डला हुआ है। कोरबा के कोलार नाला निर्माण कार्य में इस ठेकेदार ने एक ही बील को दो बार  प्रस्तुत कर आहरण का प्रयास किया है। भुगतान भी हो गया शिकायत होने पर मामला जांच में सहीं पाया गया। विभाग ने ठेकेदार के लाईंसेंस को आॅनहोल्ड रखा है। और ठेकेदार को ब्लैक लिस्टेड में दर्ज किया गया है। ऐसे ब्लैक लिस्टेड ठेकेदार को उसी विभाग का बिलासपुर जिला इतना बड़ा काम कैसे दे देता है यह भी जांच का बहुत बड़ा विषय है। क्योंकि बिलासपुर संभागीय मुख्यालय होने के कारण किसी ठेकेदार को किस सुचि में रखा जाएगा का निर्णय यही होता है।

विभाग ने इस पुल पर दी हुई डिज़ाईन के विपरित निर्माण कार्य पाया कार्य की गुणवत्ता ठीक नही थी। जहांजहां गलती हुई है। वहांवहां अधिकारियों ने क्रॉस का चिन्ह मारा  है। कार्य को सुधारने कहा किन्तु ठेकेदार नही माना तब ठेकेदार को काम बंद कर देने कहा गया है। ठेकेदार सदा अपनी ऊंची पहुंच का हवाला देता है

एचसी वर्मा, एसडीओ, पीडब्ल्यूडी

 

error: Content is protected !!