कोरिया जिले में स्कूलों का हो रहा है नियमित संचालन

०० सभी स्कूलों में बच्चों की हो रही है पढाई एवं प्राप्त कर रहे हैं मध्यान्ह भोजन 

 ०० कलेक्टर दुग्गा ने विभिन्न शालाओं का आकस्मिक निरीक्षण किया

चंद्रकांत गढ़वाल

कोरिया| कलेक्टर नरेन्द्र कुमार दुग्गा ने आज यहां बताया कि शिक्षक पंचायत और नगरीय निकाय संवर्ग के कर्मचारियों की अनिष्चितकालीन हड़ताल की अवधि में भी कोरिया जिले में संचालित सभी स्कूलों का नियमित संचालन हो रहा है। स्कूलों का संचालन 400 नियमित शिक्षक, अनिष्चितकालीन हड़ताल में शामिल नहीं होने वाले शिक्षक पंचायत और नगरीय निकाय संवर्ग के 188 शिक्षक, जिला शिक्षा एवं प्रषिक्षण संस्थान के 192, बी.एड. काॅलेज के 90, साक्षर भारत कार्यक्रम के अंतर्गत 546 प्रेरकों, 249 विद्या मितान, 102 छात्रावास आश्रम शालाओं के अधीक्षकों, अनुदान एवं निजी स्कूलों के 50 और 12वीं उत्तीर्ण ग्रामीण क्षेत्र के 100 युवक सहित बैंक और अधिवक्ताओं द्वारा किया जा रहा है। इनके माध्यम से सभी स्कूलों में बच्चों की नियमित पढाई और उन्हें नियमित मध्यान्ह भोजन प्राप्त हो रहा है। कलेक्टर दुग्गा ने आज विकासखंड खडगवां में संचालित विभिन्न शालाओं में पहुंचकर शिक्षा व्यवस्था का जायजा लिया और उन्होने षिक्षिकीय कार्य में सहयोग प्रदान करने वालों के प्रति अपना आभार व्यक्त किया। कलेक्टर दुग्गा ने सर्वप्रथम ग्राम जिल्दा, बांधपारा सहित अन्य शासकीय शालाओं का भ्रमण किया। उन्होने प्राथमिक शाला जिल्दा में अध्यापन कार्य कर रही जिलाशिक्षा एवं प्रषिक्षण संस्थान कोरिया की छात्राध्यापिका कुमारी रीता सिंह से बच्चों की उपस्थिति, मध्यान्ह भोजन, पेयजल आदि की जानकारी प्राप्त की। इस पर कलेक्टर दुग्गा ने अपनी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्हें धन्यवाद दिया। इस अवसर पर उन्होने अध्ययनरत बच्चों से सामान्य ज्ञान के प्रश्र्न और पहाडा पूछकर उनके ज्ञान के स्तर को टटोला एवं उनके द्वारा सही जवाब देने और पहाडा पढकर सुनाने पर उन्हें अपनी बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होने कक्षा 4थी में अध्ययनरत छात्रा कुमारी प्रतिभा और विद्यासागर तथा कक्षा 5वीं के छात्र किषन साहू को शिक्षक बनाकर उन्हें शिक्षा की टिप्स दी और उनसे कक्षा के बच्चों को पाठ पढवाया।

कलेक्टर दुग्गा ने कहा कि शिक्षक की समाज में एक अलग पहचान और स्थान होती है। शिक्षक ही नई पीढी का निर्माणकर्ता भी होता है। आप मे से कोई भी विद्यार्थी शिक्षक बन सकता है। उन्होने प्रत्येक विद्यार्थियों को एक एक दिन कक्षा लेने की समझाईश दी। इस अवसर पर उन्होने कक्षा 5वीं के छात्रों को मन लगाकर अध्ययन करने और नवोदय विद्यालय में प्रवेश हेतु तैयारी करने की बात कही। उन्होने कहा कि नवोदय विद्यालय में उत्कृष्ट शिक्षा दी जाती है और वहां अध्ययनरत विद्यार्थियों का चयन ऊंचे प्रशासनिक पदों पर होता है। इसी तरह उन्होने बांधपारा स्थित प्राथमिक शाला का भी अवलोकन किया। इस अवसर पर उपस्थित प्रधानपाठक महावीर प्रसाद से भी आवश्यक जानकारी प्राप्त की। उन्होने प्रसाद को भी पूरी निष्ठा के साथ बच्चों को शिक्षा देने के निर्देष दिये। इस अवसर पर दुग्गा ने मौजूद अनुविभागीय अधिकारी राजस्व दषरथ सिंह राजपूत को बांधपारा स्थित प्राथमिक शाला का रंग रोगन कर उत्कृष्ट शाला के रूप में स्थापित करने के निर्देष दिये। निरीक्षण के दौरान ग्राम के सरपंच, जिला विपणन कार्यालय के सहायक प्रबंधक ओंकार पाण्डेय सहित ग्रामीणजन मौजूद थे।

 

error: Content is protected !!