कोपेडीह बना राजनांदगांव का पहला पूर्ण विद्युतीकृत गांव, मुख्यमंत्री ने सरपंच को सौंपा प्रमाण पत्र

०० शराबी वर के साथ शादी से इंकार करने वाली गांव की बेटी शारदा साहू को किया सम्मानित
००  कोपेडीह में व्यावसायिक परिसर और महिला भवन बनाने की घोषणा

रायपुर| राजनांदगांव जिले का कोपेडीह गांव आज सौभाग्य योजना के अंतर्गत जिले का पहला पूर्ण विद्युतीकृत गांव बन गया है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज कोपेडीह में आयोजित कार्यक्रम में सरपंच श्रीमती सुशीला को प्रमाण पत्र प्रदान किया। उल्लेखनीय है कि यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की प्राथमिकता वाली योजना है, जिसके अंतर्गत हर घर में बिजली की सहज उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। कोपेडीह गांव के 278 परिवारों में से 272 परिवारों के यहां पहले से बिजली कनेक्शन मौजूद थे। सौभाग्य योजना के अंतर्गत गांव के छह परिवारों को बिजली कनेक्शन दिए गए। इनमें से दो बीपीएल परिवार और चार एपीएल परिवार हैं।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि हर घर बिजली के उजाले से रौशन हो यह सरकार की प्राथमिकता है। वर्ष 2018 तक सभी मजरों-टोलों तथा अविद्युतीकृत घरों में कनेक्शन दिए जा रहे हैं। सौभाग्य योजना के अंतर्गत बीपीएल परिवारों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन और एपीएल परिवारों को 50 रूपए में बिजली कनेक्शन दिए जा रहे हैं। एपीएल परिवारों 10 रूपए की मासिक किश्त के रूप में शुल्क देना होगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि ग्राम कोपेडीह में वर्ष 2008 से 2017 की बीच की अवधि में 3 करोड़ 44 लाख रूपए के विकास कार्य किये गये हैं। गांव तेजी से विकास की राह में अग्रसर है। उन्होंने महिला स्व सहायता समूहों की बैठक के लिए 15 लाख रूपए की लागत में महिला भवन बनाने की घोषणा की। साथ ही 9 लाख रूपए की लागत से व्यावसायिक परिसर के निर्माण की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोपेडीह जलाशय में नाली निर्माण की मांग ग्रामीणों द्वारा रखी गई है, इसके परीक्षण उपरांत आवश्यक कार्रवाई की जायेगी। कलेक्टर श्री भीम सिंह ने कोपेडीह में वर्तमान में चल रहे विकास कार्यों की जानकारी मुख्यमंत्री को प्रदान की।मुख्यमंत्री ने कहा कि लाडली-नोनी योजना बीपीएल परिवारों के लिए शासन ने आरंभ की है। इस योजनान्तर्गत पुत्री जन्म होने पर 5 हजार रूपए शासन द्वारा जमा किये जाते हैं तथा 18 साल की होने पर बिटिया की खाते में एक लाख रूपए जमा हो जाते है। उन्होंने कहा कि जिन परिवारों में 5 साल से कम उम्र की बेटियां है उन्हें इस योजना का लाभ मिल सकता है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी शासन ने मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना आरंभ की है। इसमें पहले 30 हजार रूपए की सहायता दी जाती थी अब इस योजना में 50 हजार रूपए तक इलाज के लिए सहायता प्रदान की जाती है। मुख्यमंत्री ने गांव में बेहतर कार्य कर रहे वरिष्ठजनों का भी सम्मान किया। इस मौके पर समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष श्रीमती शोभा सोनी, नागरिक आपूर्ति के पूर्व अध्यक्ष श्री लीलाराम भोजवानी, राजगामी संपदा न्यास के पूर्व अध्यक्ष श्री संतोष अग्रवाल, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष श्री सचिन बघेल, जनपद अध्यक्ष श्रीमती सरिता कन्नौजे, श्री कोमल सिंह राजपूत, श्री सावन वर्मा, श्री लीलाधर साहू एवं अन्य पदाधिकारीगण उपस्थित थे। इस अवसर पर जिले के प्रभारी सचिव श्री एम.के. त्यागी सहित जिले के अधिकारी उपस्थित थे।
शराबी वर से शादी से इंकार करने वाली शारदा साहू का किया सम्मान :- मुख्यमंत्री ने इस मौके पर शराबी वर से शादी करने से इंकार करने वाली कोपेडीह गांव की बेटी शारदा साहू का सम्मान किया। उन्होंने कहा कि हम शारदा के साहस की तारीफ करते हैं। शारदा ने बता दिया है कि महिलाएं अब पुरूषों के बराबर कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है और अन्याय का कड़ा प्रतिरोध कर रही है।

 

error: Content is protected !!