नसबंदी कांड के फरार आरोपी को संरक्षण देने वालों के खिलाफ कार्रवाई न होना दुर्भाग्य : दीपक सिंह

०० नसबंदी कांड के आरोपी की हुई थी  कांग्रेस महामंत्री के होटल से गिरफ्तारी

०० मंत्री समर्थक भाजपा कार्यकर्ताओ ने की है कांग्रेस महामंत्री को आरोपी बनाने की  शिकायत

बिलासपुर। प्रदेश की राजनीति को हिला देने वाले नसबंदी कांड के एक आरोपी की गिरफ्तारी पुलिस ने कांग्रेस पार्टी के महामंत्री के होटल से की थी, गिरफ्तारी के ठीक दुसरे दिन भारतीय जनता पार्टी के संगठन के नेताओं ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपकर यह मांग की थी कि फरार अभियुक्त को अपने व्यवसायिक स्थल पर पनाह देने के आरोप में पार्टी के महामंत्री को सह अभियुक्त बनाया गया। कुछ इसी तरह का ज्ञापन छ.ग. जनता कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल ने भी सौंपा था। गिरफ्तारी के बाद अभियुक्त को कोर्ट के निर्देश पर जेल भेजा गया बाद में उसे विधिवत जमानत प्राप्त हो गई।

नसबंदी कांड के इस आरोपी की पेशी अभी भी बिल्हा न्यायालय में चल रही है किन्तु इस मामले की कोई जांच नही हुई कि एक राजनैतिक दल के पदाधिकारी जो शहर के गणमान्य नागरिक भी है के व्यवसायिक प्रतिष्ठान से कोई फरार आरोपी पकड़ा जाए तो मामला तो बनता है। इसी तरह नसबंदी कांड के ठीक बाद जब फार्मा कंपनी को आरोपी बनाया गया था तब भी भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधि मंडल ने फार्मा कंपनी की सम्पत्ती में कांग्रेस के महामंत्री को हिस्सेदार बता कर सम्पत्ती की रजिस्ट्री बतौर सबूत पुलिस अधीक्षक को दी थी। तब भी यह मांग की गई थी कि दोषी फार्मा कंपनी के हिस्सेदार को आरोपी बनाया जाए। किन्तु कोई कार्रवाई नही हुई। इन तीनों ज्ञापन से यह जाहिर होता हे कि कांग्रेस का यह महामंत्री अन्य राजनैतिक दलों की नजर में बड़ा अपराधी है जिसके ऊपर हत्या का षड़यंत्र रचने फरार आरोपियो को पनाह देने जैसे गंभीर आरोप है। किन्तु पुलिस ऐसे आरोपी के विरूद्ध कार्रवाई नही करती। इससे जाहिर होता है कि भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारियों एवं कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारी के बीच सीर्फ नूराकुश्ती चलती है।

भाजपा समर्थको ने किया था अटल श्रीवास्तव की संलिप्तता होने की शिकायत :- नसबंदी कांड के आरोपी की गिरफ्तारी जिला कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव के होटल कंट्री क्लब से अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने छापामार कार्यवाही कर की थी, जबकि भाजपा के कद्दावर मंत्री समर्थक कार्यकर्ताओ ने नसबंदी काण्ड के दौरान ही इस मामले के आरोपी खरे व अटल श्रीवास्तव के व्यापारिक संबंध होने सहित कई व्यवसायों में पार्टनरशिप होने के आरोप मिडिया के माध्यम से लगाया था| नसबंदी कांड के लगभग चार वर्षो बाद इस मामले के आरोपी का जिला कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव के होटल कंट्री क्लब से गिरफ्तारी किया जाना सीधा सीधा आरोपी व अटल श्रीवास्तव के संबंधो को लेकर मंत्री समर्थको के आरोपों को साबित करता है| बहुचर्चित नसबंदी कांड के आरोपी की गिरफ्तारी जिला कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव के होटल कंट्री क्लब से किया गया था जिसके चलते भाजपा कार्यकर्ताओ ने अटल श्रीवास्तव को भी आरोपी बनाये जाने की मांग की थी मगर आज तक इस मामले में अटल श्रीवास्तव के खिलाफ पुलिसिया कार्यवाही नहीं की गयी जबकि जिले के विधायक व कद्दावर मंत्री के समर्थको ने इस मामले की शिकायत पुलिस अधीक्षक से लेकर आलाधिकारियो से भी की थी मगर सत्तासीन भाजपा के कार्यकाल के बावजूद इस मामले में कार्यवाही नहीं होना संदेहास्पद प्रतीत हो रहा है|

पार्टी के निर्देश पर देते है ज्ञापन- वाणी राव 

“नसबंदी कांड में अंतिम आरोपी की गिरफ्तारी में पुलिस ने हिरासत स्थल बताया था उसी आधार पर पार्टी के निर्देश पर हमने ज्ञापन सौंपा था और जांच की मांग की थी। ज्ञापन पर फीडबैक लेना पार्टी का काम है”।

ज्ञापन भाजयुमों का था – मनीष अग्रावाल 

“नसबंदी कांड पर एक आरोपी की गिरफ्तारी और उसे संरक्षण देने के बाद जो ज्ञापन दिया गया। वह मोर्चे का था इसीलिए कार्रवाई क्या हुई यह मोर्चा पदाधिकारी ही बताएंगे”|

 

हम अपने आरोंपों पर कायम है पुलिस अधिक्षक ने जांच का आश्वासन दिया था : दीपक सिंह ठाकुर 

भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा ने नसबंदी कांड की गंभीरता को देखते हुए आरोपियों को संरक्षण देने वालों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग की है। हमने कांग्रेस पार्टी के महामंत्री अटल श्रीवास्तव पर आरोपी को संरक्षण के आरोप लगाए थे। ज्ञापन लेते वक्त जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन ने जांच का आश्वासन दिया था। मैं स्वयं पता करूंगा की जांच किस स्तर पर है।

 

आरोपी को संरक्षण दिया है, तो जांच होनी चाहिए और दोषियों पर कार्रवाई भी होनी चाहिए :  अटल 

नसबंदी कांड के लिए कौन जवाब देय है सब जानते है। मेरे ऊपर जो भी आरोप लगे उन सब की जांच होनी चाहिए सत्ता उनकी है जांच उन्हें करनी है। दोषी नही भी होंगा तो भी लपेट लेंगे। क्लीन चीट तो सिर्फ अपनों को देते है।

error: Content is protected !!