धमाका36 की खबर के बाद हुआ प्रधानमंत्री आवास योजना का रुका कार्य प्रारंभ, हितग्राहियों को मिली राहत

०० धमाका36 की खबर का हुआ असर, आवास योजना में गड़बड़ी को किया था प्रमुखता से प्रकाशित

०० ग्राम पंचायत कुंवारी मुंडा आश्रित ग्राम लालपुर में सवरा जाति के हितग्राहियों का आवास निर्माण पड़ा था ठप्प   

संजय बंजारे
करगी रोड कोटा| जनपद पंचायत कोटा के ग्राम पंचायत कुंवारी मुंडा आश्रित ग्राम लालपुर में सवरा जाति के लोगों को प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत हुआ था मगर ठेकेदार धर्मेंद्र देवांगन की उदासीनता से छः माह से अधूरा पड़ा था आश्रित ग्राम लालपुर में प्रधानमंत्री आवास में जमकर धांधली किया जा रहा था सवरा जाति के लोग जनपद पंचायत कोटा और सरपंच सचिव को शिकायत कर थक चुके थे कि साहब हम लोगों का प्रधानमंत्री आवास जोकि महज छः माह से अधूरा पड़ा है उसको नहीं बनाया जा रहा है  उन सवरा जाति के लोगों को लगातार चक्कर लगवाया जा रहा था कि अब आप लोग ही उस अधूरे पड़े मकान को अपने स्वयं के पैसे से ही बनवाएं ऐसा बोला जाता है। हितग्राहियो के द्वारा जब यह जानकारी मीडिया को मिली तो मीडिया ने वहां जाकर देखा तो वास्तव में उन गरीब परिवार के लोगों का मकान अधूरा पड़ा मिला इस खबर को धमाका 36 ने प्रमुखता से उठाया था|

खबर लगने के बाद जनपद सदस्य धर्मेंद्र देवांगन के द्वारा आश्रित ग्राम लालपुर के सवरा जाति के लोगों का प्रधानमंत्री आवास जोकि अधूरा पढ़ा था दूसरे दिन ही उन लोगों का प्रधानमंत्री आवास का निर्माण प्रारंभ कर दिया|
कोटा जनपद पंचायत सदस्य धर्मेंद्र देवांगन के द्वारा प्रधानमंत्री आवास में जो राशि आई थी उसको सहमति पत्र में हितग्राहियों का साइन करवा कर उस राशि को गमन कर लिया जा रहा था धर्मेंद्र देवांगन के द्वारा सवरा जाति के अनपढ़ लोगों को चेक दिया जाता है वह भी 35000 रूपय का मगर धर्मेंद्र देवांगन के खाते में उतना राशि नहीं होने के वजह से चेक बाउंस हो जाता है और फिर ₹15000 का चेक दोबारा दिया जाता है और अनपढ़ लोगों को बोल दिया जाता है कि आपके खाते में ₹15000 रुपए ही आना है जबकि एक लाख बीस हजार रुपये मकान बनाने के लिए व बारह हजार रुपये शैचालय के बनाने के लिए व बाकी बचे पैसों का मजदूरी भुगतान किया जाता है सहमति पत्र मैं साइन करवाने के बाद उन लोगों को यही मालूम नहीं होता कि प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए उनके खाते में कितना राशि आई है।ठेकेदारी के माध्यम से धर्मेंद्र देवांगन अपनी जेबें गरम कर रहा है उन गरीब परिवार की पेट को मार कर अपनी जेब भर रहा है। सवरा जाति के लोग सुबह से ही अपने सांपों को लेकर के एक गांव से दूसरे गांव भीख मांगते फिरते हैं ऐसे गरीबों के परिवार के पेट में लात मारने के बराबर है।
प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत हितग्राही जगन्नाथ सिंह सवरा ने मीडिया का बहुत-बहुत धन्यवाद दिया है और कहां की अगर मीडिया इस खबर को नही लगाती तो शायद ही हम गरीब लोगों का मकान नही बन पाता। ठेकेदार के द्वारा बनाये जा रहे प्रधानमंत्री आवास में खराब ईट का उपयोग किया जा रहा है जोकि मकान बनाने के लिए पूर्ण रूप से सही नहीं है प्रधानमंत्री आवास में लगे ईट पानी से ही घुल रहे हैं।


प्रधानमंत्री आवास के लिए जब नीव (डीपीसी) किया जाता है तब 10 से 15 इंच में छड़ लगाया जा रहा है जबकि नियम यह कहता है की डीपीसी में 6 से 8 इंच होना चाहिए यह गोरखधंधा आखिर कब तक चलता रहेगा ऐसे भ्रष्ट जनप्रतिनिधि के ऊपर शासन-प्रशासन आखिर कार्यवाही क्यों नहीं करता है मीडिया द्वारा संज्ञान दिलाने के बाद भी स्थानीय प्रशासन द्वारा कार्यवाही नहीं की जाती। बस बोला दिया जाता है कि जाँच उपरांत उचित कार्यवाही की जायेगी।

 

इनका कहना है ………….

जाँच उपरांत उचित कार्यवाही होगी अभी जाँच चल रही है जाँच रिपोर्ट आने के बाद कार्यवाही करेंगे

विनय कुमार लंगेह, प्रशिक्षु आईएएस सीईओ, जनपद पंचायत कोटा

 

error: Content is protected !!