कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ता आपस में भिड़े,जमकर हुआ पथराव

रायपुर| राजधानी के गुढि़यारी के पहाड़ी चौक पर कांग्रेसी और बीजेपी कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर कांग्रेस के कार्यकर्ता काला दिवस मना रहे थे तभी सत्ताधारी बीजेपी के कार्यकर्ता सामने आ गए। दोनों पार्टी के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। स्थिति बेकाबू होते देख गुढि़यारी पुलिस ने हालात को काबू किया। इस दौरान में कुछ देर के लिए तनाव की स्थिति पैदा हो गई। बताया जा रहा है कि पथराव के दौरान कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को चोटें आई है।

नोटबंदी के मुद्दे को लेकर गुढिय़ारी के पहाड़ी चौक पर कांग्रेस का कार्यक्रम चल रहा था। इस दौरान कार्यक्रम स्थल पर एक ओर से जमकर पत्थरबाजी शुरू हो गई। जिस दौरान ये पत्थरबाजी हो रही थी। उस वक्त मंच पर प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया और पीसीसी चीफ भूपेश बघेल सहित कई शीर्ष नेता मौजूद थे। मिली जानकारी के मुताबिक कार्यक्रम स्थल के करीब बीजेपी के कार्यकर्ता भी पहुंचे हुए थे। कांग्रेसी कार्यकर्ता ने जब पथराव का विरोध किया दोनों एक दूसरे से भीड़ गए। इसके बाद दोनों पार्टी के कार्यकर्ता में एक दूसरे को मरने मारने पर उतारू हो गए। घटना स्थल पर मौजूद गुढि़यारी पुलिस ने स्थिति को काबू किया। करीब घंटे भर चली इस विरोध प्रदर्शन में कई कांग्रेसी कार्यकर्ता को चोट आई है।

भाजपा आज मना रही है कालाधन विरोधी दिवस:- नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर भाजपा का व्यवसायी प्रकोष्ठ आज कालाधन विरोधी दिवस के रूप में मना रही है। इसके लिए जयस्तंभ चौक पर दोपहर एक कार्यक्रम भी हुआ। वहीं शाम को मरीन ड्राइव में भी उपलब्धी को लेकर एक और कार्यक्रम होगा। इसमें आम जनता को नोटबंदी के बाद हुए फायदों की जानकारी दी जा रही है। नोटबंदी की पहली वर्षगांठ पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जनता के नाम जारी अपने संदेश में कहा है, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, गरीबी और महंगाई जैसी गंभीर समस्याओं का सबसे बड़ा कारण कालाधन है। इसलिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इन समस्याओं से मुक्ति दिलाने के लिए विमुद्रीकरण के जरिए कालेधन के खिलाफ सीधी लड़ाई की शुरूआत की है। यह प्रधानमंत्री के दृढ़ संकल्प का परिचायक है।

error: Content is protected !!