खड़गवां सामुदायिक स्वास्थ केंद्र मे लम्बे समय से चल रहा झोलझाल

०० खड़गवां सामुदायिक स्वास्थ केंद्र प्रभारी कुजुर चला रहे निजी लैब

कोरिया| जिले के खड़गवां विकासखंड के सामुदायिक स्वास्थ केंद्र मे डॉक्टर और स्वास्थ केंद्र के कर्मचारी कुजुर करने में लग हुए है, ऐसा नही है कि इस बंदरबांट की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च पदस्थ अधिकारियों को नही है दरअसल मामला यह है कि खड़गवां सामुदायिक स्वास्थ केंद्र के बीएमओ डॉ. एस. कुजुर लम्बे समय से प्राइवेट लैब चला रहे है साथ ही साथ लेब पर ही निजी तौर पर मरीजों का उपचार भी कर रहे है।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जीवन प्रमाण पत्र बनाने का भी शुल्क वसूली किया जा रहा है। जब इस विषय मे धमाका36.कॉम ने डॉ. कुजूर से चर्चा की तो उनका कहना था कि हा एमरजेंसी मे मरीजों को भेजते है। प्राइवेट लैब मे थोड़ा बहुत चेकअप के लिए और फिर बातों को अलग दिशा में ले जाने लगे, हालांकि यह कोई नई बात नही है इस तरह की कई कारनामों को अमलीजामा पहनाया जा रहा है।

खड़गवां स्वास्थ केंद्र मे चल रहे बंदरबांट की जानकारी कोरिया जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमओ) डॉ. आर. एस. पैकरा को भी है, जब सीएमओ पैकरा से इस मामले की जानकारी दी गयी तो उन्होंने कहा जांच चल रही है, जो भी तथ्य सामने आयेगा उस पर कार्यवाही की जाएगी। क्या सभी शासकीय अधिकारी और कर्मचारियों को किसी भी मामले के लिए यही रटा रटाया बयान शासन बोलने के लिए कहती है या ये अधिकारी स्वयं ही इस बयान को रट लेते है। आखिर क्या कारण है कि शासकीय विभाग के अधिकारियो व कर्मचारियों बिना भय के अपने पदों का दुरूपयोग कर अपनी जेबे भरने में लगे हुए है| बहरहाल देखने वाली बात यह है कि इस मामले में विभाग के आलाधिकारी कब और क्या कार्यवाही करते है या खड्गवा बीएमओ को अभयदान दे दिया जाएगा|

निजी प्रैक्टिस की जानकारी मिडिया में आने पर की गयी लीपापोती :- खड़गवां सामुदायिक स्वास्थ केंद्र बीएमओ डॉ. एस. कुजुर लम्बे समय से प्राइवेट लैब चला रहे है साथ ही साथ लेब पर ही निजी तौर पर मरीजों का उपचार भी कर रहे है, प्राइवेट लैब संचालन कि जानकारी जब मीडिया मे आई तो डॉ. एस. कुजुर और कर्मचारियों ने लैब के नाम तालिका पर लीपापोती करना शुरू कर दिया और लैब कई अन्य जगहों मे गुप्त तरीकों से अभी भी संचालित कर रहे है।

 

error: Content is protected !!