कोनी टीआई शुक्ला ने की आदिवासी नेता से मारपीट, ग्रामीणों ने गृहमंत्री से शिकायत कर की कार्यवाही की मांग

०० कोनी थाना प्रभारी शुक्ला के खिलाफ है कई शिकायते, जांच के बाद भी कार्यवाही नहीं होने से ग्रामीणों में आक्रोश

०० आदिवासी नेता ने कोनी थाना प्रभारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं होने पर आत्महत्या की दी चेतावनी

बिलासपुर| कोनी थाना क्षेत्र के ग्रामीणों ने गृहमंत्री रामसेवक पैकरा से कोनी टीआई की शिकायत की है। आदिवासी नेता के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया है। गृहमंत्री से न्याय की फरियाद लगाने के बाद आदिवासी समाज के लोग अजाक थाना भी गए। थानेदार एससी शुक्ला के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग करते हुए लिखित में शिकायत की है।

सेमरताल निवासी आदिवासी नेता राजेश सिंह गोंड ने अजाक थाना में कोनी टीआई सुरेश चन्द्र शुक्ला के खिलाफ जातिगत गाली गलौच कर मारपीट किये जाने की शिकायत की है। इसके पहले राजेश सिंह गोड़ आदिवासी समाज के लोगों के साथ छत्तीसगढ़ भवन में गृहमंत्री रामसेवक पैकरा से मिलकर थाना प्रभारी पर आदिवासी समाज को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। राजेश ने पैकरा से जातिगत गाली गलौच करने वाले थानेदार के खिलाफ सख्त कार्रवाई की माग की। ग्रामीणों ने गृहमंत्री से बताया कि थानेदार ने ना केवल मेरे साथ मारपीट की। बल्कि दुकान से लेकर थाने तक जातिगत अश्लील गालियां देते हुए नेतागिरी से बाज आने की धमकी दी है।राजेश सिंह ने बताया कि वह आदिवासी समाज का जिला अध्यक्ष है। समाज में उसकी मान प्रतिष्ठा है। बावजूद इसके कोनी थानेदार हाथ धोकर पीछे पड़ा है। गलती सिर्फ इतनी है कि मैने आईजी से मिलकर कोनी थानेदार को हटाने की मांग की थी। राजेश ने बताया कि 10 अक्टूबर की रात्रि को रमतला निवासी मां बेटी की सामुहिक हत्या उसके दामाद ने की। घटना के बाद कोने में चार बजे से लगातार काल किया गया लेकिन किसी ने नहीं उठाया। समय रहते पुलिस की मदद मिल जाती तो मां बेटी को बचाया जा सकता था। दोनों मां बेटी सुबह 6 बजे तक जिन्दा थी। पुलिस करीब आठ बजे घटना स्थल पहुंची। आक्रोशित ग्रामीणों ने घेराव किया। इसके बाद रमतला के ग्रामीणों ने मेरे साथ आईजी से लिखित शिकायत कर थानेदार को हटाने और मामले में जांच की मांग की गयी।राजेश ने बताया कि आईजी से शिकायत के बाद कोनी थाना प्रभारी शुक्ला नाराज हो गए। उन्होने फोन पर 11 अक्टूबर को मां बहन की गाली दी। धमकी दी कि नेतागिरी से बाज आए अन्यथा अंजाम भुगतने को तैयार रहे। इस दौरान थाना प्रभारी ने जातिगत गालियां भी दी है।राजेश ने बताया कि गाली गलौच की लिखित शिकायत मैने आईजी और पुलिस कप्तान से की है। मामले में पुलिस प्रशासन ने जांच का आदेश दिया है।जांच आदेश जारी होते ही 21 अक्टूबर को टीआई शुक्ला शाम करीब साढ़े सात बजे सेन्दरी स्थित मेरे दुकान आया। जीप से उतरते ही गाली गलौच करने लगे। कहने लगे कि समझाने के बाद भी तूझे समझ में नहीं आया। चल अब तुझे नेतागिरी सिखाता हूं। शुक्ला ने पहले तो दुकान में मेरे साथ मारपीट और गाली गलौच किया। इसके बाद थाने लाकर मारपीट की। इस दौरान भद्दी भद्दी जातिसूचक गालियां भी दी।  मुझे रात्रि करीब 10 बजे थाने से छोड़ा गया।

गृहमंत्री से कोनी टीआई सुरेश चन्द्र शुक्ला पर सख्त कार्यवाही की मांग:- आदिवासी नेता राजेश सिंह गोंड ने गृहमंत्री पैकरा से कोनी टीआई सुरेश चन्द्र शुक्ला द्वारा मारपीट कर जातिसूचक गाली दिए जाने की शिकायत करते हुए कहा कि इस घटना से बहुत अपमानित महसूस कर रहा हूं। मामले में किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हो रही है। गृहमंत्री से आश्वासन के बाद राजेश सिंह ग्रामीणों के साथ अजाक थाने में लिखित शिकायत कर कोनी थाना प्रभारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है, इस दौरान राजेश ने आत्महत्या की भी चेतावनी दी है।

error: Content is protected !!