राज्य में खुलेंगे 40 एनिमल होल्डिंग सेंटर : बृजमोहन   

रायपुर। प्रदेश के कृषि सिंचाई तथा पशुपालन मंत्री ने पशुपालन विभाग की बैठक ली। इस बैठक में उन्होंने घुमंतू पशुओं के व्यवस्थापन के लिए राज्य में एनिमल होल्डिंग प्रिमाइसेस (एएचपी) खोले जाने की जानकारी दी।
बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि नेशनल हाईवे स्टेट हाईवे तथा जिले की मुख्य मार्गो में अक्सर घुमंतू पशुओं के विचरण के चलते बड़े हादसे हो रहे हैं। बड़े वाहनों से टकराकर पशुओं की मृत्यु होती है या वे अपाहिज हो जाते हैं। इन पशुओं के कारण व्यक्ति भी दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं। ऐसे में मुख्य मार्गो से लगी हुई भूमि पर एएचपी की स्थापना हम करने जा रहे हैं। बृजमोहन ने वर्तमान में चिन्हांकित 40 स्थानों पर तत्काल एएचपी निर्माण के निर्देश बैठक में दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि यह एएचपी एक विशेष प्रकार की गौशाला होगी। इसमें काऊ कैचर, अटेंडेंट, शेड, चारा-पानी, औषधालय की व्यवस्था होगी । यहां घुमंतू,अपाहिज, जब्त किए गए तथा दुर्घटनाग्रस्त पशुओं, को काऊ कैचर से परिवहन कर यहां अस्थाई तौर पर रखा जाएगा। बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव अजय सिंह, सचिव कृषि अनूप श्रीवास्तस्व, संचालक पशुपालन एसके पांडे, संचालक कृषि केरकेट्टा, गौशाला आयोग के सचिव डॉ एमपी पासी, रजिस्ट्रार केके सोनी आदि उपस्थित थे।
सामाजिक संगठन को मिलेगी जिम्मेदारी :- राजधानी में बनाए जाने वाले 40 एनिमल होल्डिंग सेंटर की देख रेख करने की जिम्मेदारी सेवाभावी सामाजिक संगठनों को दी जाएगी। जो पशुओं के खानपान, स्वास्थ्य आदि संभालेंगे। इसके लिए सामाजिक संगठनों की सूची मंगाई जाएगी। साथ ही संगठन की जांचपड़ताल के बाद ही एनिमल होल्डिंग सेंटर का कार्यभार सौंपा जाएगा

 

error: Content is protected !!