धान का बोनस लेने जिला सहकारी बैंक कोटा में लगी किसानों की लंबी कतार

०० किसानो ने लगाया बैंक कर्मचारी पर पैसा निकलवाने कमीशन लेने का आरोप

 

कोटा| कोटा क्षेत्र के जिला सहकारी मर्यादित बैंक के माध्यम से किसानों को 300 प्रति क्विंटल के हिसाब से धान का बोनस दिया जा रहा है जिसमें की कोटा में 9 किसान  समिति मंडी है जिसके लिए राज्य शासन ने धान का बोनस जिला सहकारी बैंक कोटा को 12 करोड़ तीन लाख रुपए दिए हैं जो कि किसान दिवाली अच्छे से मना सके इसलिए राज्य शासन ने किसानों को बोनस तिहार के रूप में सौगात दिए हैं इस साल और सब से भी कम बारिश होने की वजह से परेशान किसान को राज्य सरकार ने बोनस तिहार का आयोजन कर उन्हें बोनस दिया है छत्तीसगढ़ में किसानों के लिए महाभियान बोनस तिहार शुरू हो चुका है 3 से 13 अक्टूबर तक 10 दिन चलने वाले इस महाअभियान में किसानों को बोनस दिया है इसका शुभारंभ सी एम डॉ रमन सिंह ने बिलासपुर से की है सीएम के अनुसार दिवाली के पहले सभी किसानों को हर हाल में बोनस दे दिया जाएगा राज्य सरकार ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि इसमें अगर देरी होने पर विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी सही समय पर किसानों को बोनस दिया जाएगा|

कोटा जिला सहकारी बैंक में किसानों की लंबी भीड़ जो की प्रतिदिन बैंक में किसान की लंबी कतार लगा रहता है भीड़ अधिक होने से लोगों में अफरा-तफरी का माहौल भी आ चुका था जिससे कि बैंक मैनेजर ने कुछ पुलिस बल की भी मदद ली है 1 दिन पहले किसानों ने भीड़ की वजह से दो कैश काउंटर खोला गया| किसानों ने आरोप लगाया है कि यहां कुछ दलाल जिला सहकारी मर्यादित बैंक कोटा में पैसा निकलवाने जाते हैं तो वहां के कर्मचारी हर किसान से 200 के हिसाब से घुस लिया जाता है तब जाकर उनका पैसा बैंक से दिया जाता है जब मीडिया ने इस बारे में बैंक मैनेजर से बातचीत की तो उन्होंने बताया कि इस विषय पर कोई भी किसान मेरे पास शिकायत लेकर नहीं आया है अगर कोई किसान शिकायत लेकर आता है तो बैंक कर्मचारी के ऊपर कार्यवाही की जाएगी| जिला सहकारी मर्यादित बैंक कोटा के मैनेजर ने बताया है कि किसानो का 300 बोनस अब उसके सीधे खाते में ही राज्य शासन ने ट्रांसफर किया है किसान जब चाहे जिस वक्त चाहे उस पैसे को अपने खाते से निकलवा सकता है किसानों की लंबी भीड़ को देखते हुए रविवार को भी बैंक को खोला गया जिससे कि किसानों को कोई प्रकार की समस्या ना हो सके

 

error: Content is protected !!