एजेण्ट, माफिया, मुनाफाखोरी, कमीशन कांग्रेस सरकार की देन है: संजय श्रीवास्तव  

रायपुर। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल व रविन्द्र चैबे के शराब पर संघ की सहमती और भागीदारी पर तीखी टिप्पणी करते हुए कहा कि एजेण्ट, माफिया, मुनाफाखोरी, कमीशन और भागीदारी यह कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकारों की देन है। उन्होनें कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ एक राष्ट्रवादी संस्था है।

उन्होनंे कहा कि आरएसएस पर आरोप लगाने से पहले कांग्रेस को अपने कद और हैसियत पर विचार कर लेना चाहिए था। प्रारंभ से ही आरएसएस की विरोधी रही कांग्रेस से ऐसे ही आचरण की उम्मीद थी। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ कोई राजनीतिक पार्टी नहीं है। जो कांग्रेस उसके खिलाफ अभद्रता प्रगट कर रही है ? सवाल पूछ रही है?  आज यदि तुलना किया जाऐ तो कांग्रेस आर एस एस के पैर की नोक भी नहीं है। सत्ता से दूर रहकर कांग्रेस के नेता भूपेश बघेल एवं रविन्द्र चैबे अर्धविक्षीप्त हो गया है और अर्धविक्षीप्ता में बयान दे रहे हैं। ऐसा लग रहा है मानो आजादी के बाद से देश और राज्यों में पूर्ण शराब बंदी थी और भाजपा सरकार ने इसे प्रारंभ कर दिया है। ये कांग्रेस के नेता ही इस देश में शराब के जनक है। यदि इन्हें इतनी ही शराब की चिंता थी तो 60 वर्षो तक क्यों शराब बेचते रहंे और आज शराब बंदी का नाटक कर जन हितैषी बन रहे हैं।संजय श्रीवास्तव ने कहा कि शराब बंद को लेकर भाजपा सरकार कार्य कर रही है। शराब बंदी हेतु कमेटी का निर्माण किया गया है। जो विभिन्न राज्यों का दौरा कर अपनी रिपोर्ट देगी उस आधार पर सरकार निर्णय करेगी।

 

error: Content is protected !!