बस्तर में पत्रकारों को जान से मारने का ऑडियो वायरल, छत्तीसगढ़ सरकार ने दिए जांच के आदेश

०० बस्तर में पत्रकारों को जान से मारने का धमकी भरा ऑडियो 13 साल बाद फिर से सोशल मीडिया पर वायरल

रायपुर| बस्तर में पत्रकारों को जान से मारने का धमकी भरा ऑडियो 13 साल बाद फिर से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है, 40 सेकेंड की इस आडियो क्लिपिंग की सोशल मीडिया पर दिनभर चर्चा रही। गृहमंत्री और स्पेशल डीजी नक्सल ने मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच के आदेश दिए हैं।

गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ने कहा कि आडियो में जो आवाज है उसकी जांच करने के बाद ही पूरी वास्तविकता सामने आएगी। वायरल आडियो की पुलिस को जांच करने के आदेश दिए गए हैं। इस आडियो में माओवादियों से संबंधित समाचार कलेक्ट करने के लिए जंगल में जाने वाले पत्रकारों को खत्म करने का आदेश दिया गया है। इस मामले में राज्य पुलिस ने फोर्स को अलर्ट रहने के लिए कहा है। हालांकि 2004 में भी इस तरह का ऑडियो मिलने के बाद पुलिस के उच्चाधिकारियों ने जांच के आदेश दिए थे,लेकिन वर्षो तक जांच करने के बाद भी पुलिस किसी निष्कर्ष तक नहीं पहुंच पाई थी। 2004 में जारी आडियो और बुधवार को जारी हुए आडियो में जो आवाज है और जो लाइनें बोली गई है। वह करीब-करीब एक जैसी है इस लिहाज से भी इस आडियो को संदेहास्पद बताया जा रहा है।

यह कहा गया है ऑडियो में:- बीजापुर प्रेस क्लब की ओर से सोशल मीडिया पर बुधवार को जारी आडियो में एक अधिकारी वायरलेस सेट पर निर्देश देते हुए कह रहा है कि ड्यूटी के दौरान अलर्ट रहें। अधिकारी इस समय दौरे पर निकले हुए हैं। इस दौरान अगर कोई पत्रकार माओवादियों से संबंधित रिपोर्टिंग करने के लिए जंगल के भीतर जाता है तो उसे मरवा दें।

error: Content is protected !!