नसबंदी काण्ड के आरोपी को शह देने के सवाल पर बुरे फसे अटल श्रीवास्तव

०० फेसबुक लाइव कार्यक्रम में आमजनता के सवालो से कन्नी काटते नज़र आये अटल

०० भाजपा के एल्डरमैन ने लगाया अटल श्रीवास्तव पर कई गंभीर आरोप 

बिलासपुर| बिलासपुर शहर के कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव पिछले दो हफ्तों से फेसबुक लाइव के जरिए लोगों से मुखातिब हो रहे हैं, जिसका नाम उन्होंने जनता की आवाज रखा है। प्रत्येक सोमवार को आयोजित करने वाले इस कार्यक्रम में अटल श्रीवास्तव उस समय खुद सवालों के घेरे में घिर गए जब उन्होंने बिलासपुर के विकास, अरपा की दुर्दशा समेत राज्य सरकार द्वारा शराब बेचे जाने के लिए मंत्री अमर अग्रवाल के उपर आरोप लगाए तभी कार्यक्रम में सवाल-जवाब के दौरान किसी ने अटल से खुद कुछ समय पहले तक शराब परोसे जाने को लेकर सवाल किया था, जिसका जवाब वो नहीं दे सके। इसके अलावा सरकारी जमीन में कब्जा समेत नसबंदी कांड के एक आरोपी का स्वयं के होटल में पाए जाने को लेकर सवाल दागा, जिसको कांग्रेस नेता टालते नज़र आए।बताया जाता हैं की यह कार्यक्रम मंत्री अमर अग्रवाल द्वारा शुरू किए गए फेसबुक कार्यक्रम को टक्कर देने के लिए शुरू किया गया है मगर अटल श्रीवास्तव इस कार्यक्रम में खुद ही फसते नज़र आ रहे है।

भाजपा के एल्डरमैन मनीष अग्रवाल के अनुसार कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव द्वारा मंत्री अमर अग्रवाल के खिलाफ बेबुनियाद आरोप लगाया जाता रहा है मगर पहले उन्हें अपने गिरेबान पर झांक का देख लेना चाहिए कि वो किस हद तक दलदल में धसे हुए है| मनीष अग्रवाल ने बताया कि  प्रदेश के बहुचर्चित नसबंदी काण्ड के आरोपी राकेश एवं राजेश खरे दोनों की अटल श्रीवास्तव से व्यापारिक संबंध है,जबकि अटल श्रीवास्तव के दिए बयान अनुसार इन दोनों से महज रोटरी क्लब के नाते जान-पहचान होना बताया है लेकिन जब इन्होने सत्यम चौक स्थित योगेश भंडारी की जगह को ख़रीदा जहा इनका राजनीतिक कार्यालय संचालित हो रहा जिसकी रजिस्ट्री खरे बंधू व अटल श्रीवास्तव के पार्टनरशीप से पंजीकरण किया गया है जो इनके बयान की सच्चाई को सामने ला रहा है| इस पुरे मामले की शिकायत भाजपा द्वारा पूर्ण दस्तावेजो के साथ शासन-प्रशासन को किया गया है वही नसबंदी कांड के आरोपी राकेश एवं राजेश खरे को पुलिस ने कंट्री क्लब के एक कमरे से छापामार कार्यवाही कर गिरफ्तार किया था जो अटल श्रीवास्तव के अधिपत्य की संपत्ति है जो कि अनन्या शादी भवन के नाम पर बनाया गया है| मनीष अग्रवाल ने अटल श्रीवास्तव के बयान पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि आखिरकार नसबंदी काण्ड के आरोपी शादी भवन में किस तरह से रुके हुए पाए गए जबकि यह कोई होटल या लॉज की श्रेणी में नहीं है? अगर अटल श्रीवास्तव से इनके संबंध नहीं है तो कैसे ये दोनों आरोपी कंट्री क्लब में रुके हुए थे? जब तक अटल श्रीवास्तव इन्हें रुकने के लिए अपने कंट्री क्लब के कर्मचारियों को आदेशित नहीं करेंगे वो कैसे नसबंदी कांड के आरोपियों को ठहरा सकते है|ऐसे कई तथ्य है जो अटल श्रीवास्तव व नसबंदी काण्ड के आरोपी राकेश एवं राजेश खरे के संबंधो को उजागर करता है|

प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव के नसबंदी काण्ड के आरोपी राकेश एवं राजेश खरे से व्यापारिक सम्बन्ध है जिनका दस्तावेजो के साथ शासन-प्रशासन को शिकायत किये जा चूका है, प्रशासन को भी नसबंदी कांड के आरोपियों के साथ-साथ अटल श्रीवास्तव को भी इस मामले में सहआरोपी बनाया जाना चाहिए और कार्यवाही की जानी चाहिए|

मनीष अग्रवाल, एल्डरमैन,भाजपा

error: Content is protected !!