मुहीम 1 रूपए की सहायता लेकर सीमा ने भरी उदय के साल भर की फीस

 ०० गरीब छात्र-छात्राओ को शिक्षित करने आमजनता से मात्र एक रूपए सहायता लेकर करती है मदद   

०० नगर के कई गरीब छात्र-छात्राओं की स्कूल फीस भरकर शिक्षित कर चुकी है सीमा

बिलासपुर| महज एक रूपए से किसी को शिक्षा मिल सकती है सुनने में थोड़ा अजीब लगता है मगर बिलासपुर सी.एम.दुबे महाविद्यालय में अध्यनरत छात्रा सीमा वर्मा ने इस वाकया को सच कर दिखाया है| सीमा ने नगर के होनहार व पढाई में रूचि रखने वाले छात्र-छात्राओं की स्कूल फीस भरकर उन्हें शिक्षा दिलाने का अनूठा प्रयास कर रही है इसके लिए वह नगर की आमजनता से मात्र एक-एक रूपए की मदद लेकर बच्चों के एक वर्ष की फीस अदाकर उन्हें शिक्षित कर रही है|

राज्य सरकार प्रदेश की शिक्षा-व्यवस्था के लिए नित नए योजनाये बनाकर उन्हें अमलीजामा पहनाने में किसी भी तरह की कोताही नहीं बरत रही है मगर शासन की तमाम कोशिशो के बावजूद राज्य के सैकड़ो होनहार छात्र-छात्राए शिक्षा से वंचित है| बिलासपुर जिले में शिक्षा में रूचि होने एवं पढाई में विशेष स्थान रखने वाले होनहार छात्र-छात्राए अपनी आर्थिक स्थिति व स्कूलों की फीस जमा नहीं कर पाने के कारण शिक्षा नहीं ले पा रहे है, इसी अहम् मुद्दे को लेकर बिलासपुर सी.एम.दुबे महाविद्यालय में अध्यनरत छात्रा सीमा वर्मा ने आर्थिक स्थिति से कमजोर व स्कूलों की फीस जमा नहीं कर पाने के कारण शिक्षा से वंचित होने वाले छात्र-छात्राओ को शिक्षित करने का बीड़ा उठाया है|छात्रा सीमा वर्मा ने आर्थिक रूप से कमजोर नगर के प्रतिभावान व होनहार बच्चों की साल भर की फीस जमाकर उन्हें शिक्षित करने का प्रयास कर रही है इसके लिए सीमा नगर की जनता से महज एक-एक रूपए की आर्थिक सहायता लेती है जिसके बाद छात्रों के स्कूल फीस जमाकर उन्हें निर्बाध शिक्षा लेने के लिए प्रेरित करती है| हाल ही में सीमा ने राष्ट्रीय उच्च. माध्यमिक शाला के छात्र-छात्राओ से मुहीम 1 रु की अभियान के तहत 1200 की राशि व स्वयं द्वारा 1100 की राशि का सहयोग कर कक्षा पांचवी में अध्यनरत छात्र उदय मरावी की वर्ष 2017-18 की शिक्षा शुल्क 2300 जमाकर निर्बाध शिक्षा ग्रहण करने केलिए मदद किया गया है| इस विशेष कार्य के लिए राष्ट्रीय उच्च. माध्यमिक शाला ने भी छात्रा सीमा वर्मा के इस विशेष पहल की प्रशसा करते हुए उन्हें शुभकामना प्रमाण-पत्र दिया है|

सीमा वर्मा कर चुकी है कई छात्र-छात्राओं की मदद :- सीमा ने बताया कि नगर में ऐसे प्रतिभावान छात्र-छात्राए है जो पढाई में होनहार है और कक्षाओ में अव्वल अंक लेकर आते है मगर अपनी तंगहाल आर्थिक स्थिति के चलते आगे की शिक्षा नहीं ले पाते, इसी समस्या को लेकर एक मुहीम के तहत नगर की आम जनता से महज एक एक रूपए सहायता राशि के रूप में लेकर बच्चो की फीस जमाकर शिक्षित करने का प्रयास किया जा रहा है आगे भी इस मुहीम को जारी रखा जाएगा ताकि किसी भी बच्चे को शिक्षा से महरूम ना होना पड़े|

error: Content is protected !!