सरपंच पति गोलीकांड का शूटर गिरफ्तार

रायपुर। आरंग थाना इलाके के ग्राम कुरुद में 4 सितंबर की रात सरपंच पति गोवर्धन साहू को गोली मारने वाले शूटर को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया है। डीएसपी क्राइम सत्येन्द्र पाण्डे ने कहा कि, आरोपी भूपेन्द्र कुमार (20) निवासी भाटापारा जिला बलौदाबाजार वर्तमान थाना राजेन्द्र नगर रायपुर को गरियाबंद जिले के ग्राम बासीन से गिरफ्तार किया गया। आरोपी के कब्जे से 1 पिस्टल और दो मैग्जीन बरामद की गई है। मामले के तीन आरोपी पूर्व में गिरफ्तार किए जा चुके हैं।
उप पुलिस अधीक्षक अपराध सत्येन्द्र पाण्डेय ने कहा कि क्राइम ब्रांच की ओर से रायपुर, बलौदाबाजार, महासमुंद में दबिश दी जा रही थी। टीम को गरियाबंद में आरोपी के छिपे होने की जानकारी मिली। मंगलवार को गरियाबंद के ग्राम बासीन से आरोपी को गिरफ्तार किया गया। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि महासमुंद के तुमगांव के ग्राम कुरही में एक रिश्तेदार के घर पिस्टल छिपाकर रखा है।पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर पिस्टल और मैग्जीन बरामद की है। आरोपी भूपेन्द्र 2012 में रायपुर के थाना राजेन्द्र नगर में हत्या के प्रकरण में बाल अपराधी रह चुका है। मामले का खुलासा कर आईजी प्रदीप गुप्ता ने तीन आरोपियों के गिरफ्तार की जानकारी दी थी। जनपद चुनाव में हार का बदला लेने के मकसद से सरपंच पति की हत्या के लिए 6 लाख रुपए में सुपारी दी गई थी। आरोपी परस साहू (41) निवासी ग्राम कुरुद, डोमन निषाद (25) निवासी न्यू राजेन्द्र नगर और ललित बर्वे (18) निवासी काशीराम नगर को गिरफ्तार किया जा चुका है। उस दौरान आरोपियों के पास से एक मोटरसाइकिल सीजी 04 डीई 1122 और 88 हजार रुपए बरामद किए गए हैं। गौरतलब है कि आरंग थाना इलाके के ग्राम कुरुद में बस स्टैण्ड के पास 4 सितंबर की रात मोटरसाइकिल सवार 2 अज्ञात हमलावरों ने गोवर्धन साहू उर्फ बबला को गोली मारकर फरार हो गए थे। गोली बबला के सीने में लगी थी जिसे शहर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मामले की तस्दीक में पुलिस को न्यू राजेन्द्र नगर निवासी डोमन निषाद के बारे में जानकारी लगी। पुलिस को पता चला कि डोमन एक डॉक्टर के यहां वाहन चालक है और 2014 में जनपद पंचायत आरंग से चुनाव लड़ चुका था। डोमन के मूवमेंट की जानकारी निकालने पर पता लगा कि वह अगस्त महीने में उत्तर प्रदेश गया था जहां से उसने भूपेन्द्र ध्रुव से हथियार लिए थे। साक्ष्य के साथ डोमन को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। उसने बताया कि जनपद चुनाव में हार से व्यथित था। फरवरी 2014 में सरपंच चुनाव में गोवर्धन उर्फ बबला ने इससे वादाखिलाफी की थी। आरोपी डोमन ने ग्राम कुरुद के ही परस साहू से संपर्क किया जो खुद राजनैतिक प्रतिद्धंदिता का शिकार था। दोनों ने बबला को रास्ते से हटाने की योजना बनाई गई। परस साहू ने 6 लाख रुपए में बबला की हत्या की सुपारी डोमन निषाद को दी। डोमन 90 हजार रुपए में 1 पिस्टल और 2 राउण्ड खरीद कर लाया। मामले में साथी ललित बर्वे को भी शामिल किया गया। 4 सितंबर को बबला को मारने एंबुशिंग की गई। भूपेन्द्र और ललित मोटरसाइकिल पर बबला का इंतजार करने लगे। रात सवा 8 बजे बबला साहू के सामने आने पर उसे गोली मारकर भाग गए। वादा अनुसार परस साहू ने 3 लाख रुपए डोमन निषाद को दिए और बचे रुपए कुछ दिनों में देने का वादा किया था। डोमन ने 1 लाख रुपए ललित और भूपेन्द्र को दिए थे। पुलिस ने आरोपियों से 88 हजार रुपए बरामद कर लिए थे।

error: Content is protected !!