केंद्र और राज्य में हजारों-लाखों पद रिक्त, फिर भी युवा भटक रहे बेरोजगार: कांग्रेस   

०० आने वाले चुनावों में ये युवा ही भाजपा को सबक सिखायेंगे:ज्ञानेश

०० शिक्षा, स्वास्थ्य और पुलिस जैसे अनिवार्य विभागों की स्थिति दोनों जगह दयनीय फिर भी जुमलेबाजी से चल रही सरकार

रायपुर। कांग्रेस ने कहा है कि केंद्र की जुमला सरकार और राज्य की सरकार दोनों ही महज जुबानी जमा खर्च से युवाओं को भरमाने में लगी हुई हैं, जबकि केंद्र में एक करोड़ से ज्यादा पद खाली हैं और राज्य में 20 लाख शिक्षित युवा बेरोजगार भटक रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस के मीडिया चेयरमैन ज्ञानेश शर्मा ने जारी बयान में कहा कि भाजपा सरकारें जनता को सिर्फ बातों और वादों का लॉलीपॉप थमाने के आदी हैं, उनके वादे बड़े-बड़े होते हैं लेकिन जमीनी काम कुछ नहीं। यदि कुछ काम करते तो ने केंद्र स्तर के इतने पद खाली होते न ही राज्य के 20 लाख शिक्षित युवा बेरोजगार घूम रहे होते।*

ज्ञानेश शर्मा ने कहा कि दो महीने पहले ही राज्यसभा में केंद्रीय कैबिनेट राज्य मंत्री जितेंद्र प्रसाद ने यह स्वीकार किया है कि ‘केंद्र सरकार के कुल 4,20,547 पद खाली पड़े हैं’। जिसमें 55,000 पद तो सेना से जुड़े हैं, यह उस सरकार की स्थिति है जो जुमलेबाजी में और हवाई यात्रा में माहिर है। भाजपा को जमीन पर उतर कर आईना देख लेना चाहिए। अकेले सीबीआई में 22 फीसदी पद खाली हैं। जबकि प्रत्यर्पण विभाग  में 64 फीसदी पद खाली हैं। इतना ही नहीं शिक्षा और स्वास्थ्य सरीखे विभागों में 20 ले 50 फीसदी तक पद खाली हैं। केंद्र की भाजपा सरकार को बताना चाहिए कि वह जुमलेबाजी और पूर्व की सरकारों के कार्य का क्रेडिट स्वयं लेने के अलावा और कर क्या रही है। केंद्रीय स्तर पर शिक्षा के संदर्भ में 1,22,000 पद इंजीनियरिंग कालेजों में खाली हैं तो 6,000 पद आईआईटी, आईआईएम और एनआईटी में रिक्त हैं। केंद्रीय राज्य मंत्री जितेंद्र प्रसाद का यह जवाब उनकी अपनी सरकार और उनके अपने दल की लिए आईना है, जिसमें पूरी भाजपा को झांक कर अवश्य देखना चाहिए। भाजपा को यह भी याद रखना चाहिए कि केंद्रीय सांख्यिकी मंत्रालय के मुताबिक 2016 में भारत में 1 करोड 77 लाख बेरोजगार थे, जो 2017 में एक करोड 78 लाख हो चुके हैं और अगले वर्ष 1 करोड 80 पार कर जाएंगे।शर्मा ने कहा कि यही स्थिति राज्य की रमन सरकार के साथ है। 5000 दिनों का जश्न मनाने में डूबी भाजपा को किसानों का दर्द नहीं दिख रहा, राज्य के 20 लाख शिक्षित बेरोजगारों की व्यथा नजर नहीं आ रही, जबकि अकेले शिक्षा विभाग में ही 60 हजार से ज्यादा पद शिक्षकों और व्याख्याताओं के रिक्त पड़े हुए हैं। उधर बेरोजगार नौकरी की आस में चप्पल घिसे जा रहे हैं और रमन सरकार पद रिक्त ही रखे हुए है। इसी तरह पुलिस विभाग को देखें तो राज्य के लिए मंजूर 68,099 पदों में से 8500 से ज्यादा पद खाली हैं। मीडिया चेयरमैन ने कहा कि राज्य और देश के युवा दोनों ही जगहों की स्थिति देख रहे हैं, कि कैसे एक जगह जुमला सरकार महज जुमलेबाजी से काम चला रही है और दूसरी जगह कैसे अपने ही दल के कार्यकर्ताओं से कमीशनखोरी रोकने की अपील करने वाले मुख्यमंत्री की सरकार चल रही है। आने वाले चुनावों इन सरकारों को ये युवा ही सबक सिखायेंगे।

 

error: Content is protected !!