मोदी केबिनेट का हुआ विस्तार, निर्मला सीतारमन देश की नई रक्षा मंत्री

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्रिमंडल में हुए फेरबदल के बाद जहां कई मंत्रियों का प्रमोशन हुआ है, वहीं कुछ नए चेहरों को भी कैबिनेट में जगह मिली है। इस बीच मंत्रियों को मिलने वाले विभागों का बंटवारा कर दिया गया है। साथ ही कई मंत्रियों के विभागों में फेरबदल भी हुआ है। सबसे बड़ा बदलाव निर्मला सीतारमन को रक्षा मंत्री बनाकर किया गया है। वे देश की दूसरी महिला रक्षा मंत्री होंगी। इससे पहले इंदिरा गांधी ने रक्षा मंत्री का पद संभाला था। इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली के पास रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार था।

पीयूष गोयल नए रेल मंत्री बनाए गए हैं, जिनके पास पहले ऊर्जा मंत्रालय था। पीयूष गोयल के पास कोयला मंत्रालय भी रहेगा। लगातार हो रहे रेल हादसों के बाद सुरेश प्रभु के रेलमंत्री के पद से इस्तीफे के बाद पीयूष गोयल को यह अहम विभाग सौंपा गया है। सुरेश प्रभु को वाणिज्य मंत्रालय का दायित्व सौंपा गया है। इसके अलावा मुख्तार अब्बास नकवी को अल्पसंख्यक मंत्रालय सौंपा गया है।

स्मृति ईरानी को संचार मंत्री बनाया गया है और टेक्सटाइल मंत्रालय भी उनके पास ही है। नितिन गडकरी को गंगा एवं जल संसाधन मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं, उमा भारती को पेयजल-सफाई मंत्री बनाया गया है। हरदीप पुरी को आवास और शहरी मामलों (स्वतंत्र प्रभार) की जिम्मेदारी दी गई है। इसके अलावा अल्फ़ोंस को पर्यटन राज्य मंत्री बनाया गया है। धर्मेंद्र प्रधान को पेट्रोलियम और कौशल विकास मंत्रालय दिया गया है। आरके सिंह को ऊर्जा मंत्रालय स्वतंत्र प्रभार दिया गया है।

सत्यपाल सिंह को मानव संसाधन विकास मंत्रालय राज्य मंत्री बनाया गया है। अश्विनी चौबे को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री बनाया गया है। विजय गोयल से खेल मंत्रालय स्वतंत्र प्रभार का जिम्मा वापस लिया गया है। राज्यवर्धन राठौड़ को इस विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है। राठौड़ सूचना और प्रसारण मंत्रालय के राज्य मंत्री भी बने रहेंगे। विजय गोयल को अब संसदीय कार्य राज्य मंत्री बनाया गया है। शिव प्रताप शुक्ला को वित्त राज्य मंत्री बनाया गया है। नरेंद्र तोमर को ग्रामीण विकास और खनन मंत्रालय सौंपा गया है।

अनंत कुमार हेगड़े को कौशल विकास राज्यमंत्री बनाया गया है जबकि आरके सिंह को ऊर्जा एवं नवीकरणीय एवं अक्षय ऊर्जा मंत्रालय (स्वतंत्र प्रभार), वहीं गजेंद्र सिंह शेखावत को कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय मिला है।

मंत्रियों के विभागों का वर्णन –

निर्मला सीतारमण- रक्षा मंत्री (पूर्व में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार था)।

पीयूष गोयल- रेल मंत्री (पूर्व में बिजली, कोयला और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय)।

सुरेश प्रभु- वाणिज्य मंत्रालय (पूर्व में रेल मंत्री)।

नरेंद्र सिंह तोमर- खान मंत्रालय (पूर्व में पंचायती राज, ग्रामीण विकास, पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय)

धर्मेंद्र प्रधान- पेट्रोलियम मंत्री के अलावा कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी।

उमा भारती- पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय (पूर्व में नदी विकास, गंगा संरक्षण मंत्री)।

नितिन गडकरी को सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अलावा जल संसाधन मंत्रालय, नदी विकास गंगा कायाकल्प का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।

विजय गोयल- संसदीय कार्य राज्यमंत्री, और सांख्यिकी तथा कार्यान्वयन मंत्री (पूर्व में खेल राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार)।

राज्यवर्धन सिंह राठौर- खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) (पूर्व में सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री)।

आरके सिंह- ऊर्जा और नवीन तथा नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)।

अश्विनी कुमार चौबे- स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री।

अनंत कुमार हेगड़े- कौशल विकास और उद्यमिता राज्य मंत्री।

अल्फ़ोंस कन्ननथानम- पर्यटन (स्वतंत्र प्रभार) और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री।

हरदीप पुरी- शहरी विकास राज्य मंत्री।

शिव प्रकाश शुक्ला वित्त राज्य मंत्री।

गजेंद्र सिंह शेखावत- कृषि राज्य मंत्री।

गिरिराज सिंह- सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)।

संतोष गंगवार – श्रम एवं रोजगार मंत्रालय (स्वतंत्र प्रभार)

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपनी कैबिनेट का विस्तार किया। 3 साल के कार्यकाल में मोदी कैबिनेट का यह तीसरा विस्तार है, जिसमें 9 नए चेहरों को शामिल किया गया। इसके अलावा 4 मौजूदा मंत्रियों- धर्मेंद्र प्रधान, पीयूष गोयल, निर्मला सीतारमण और नकवी का प्रमोशन हुआ है।

 

error: Content is protected !!