स्वस्थ रहने के लिए स्वच्छ पर्यावरण जरूरी: रमेश बैस

०० राजधानी के शासकीय जिला अस्पताल में एक करोड़ रूपए की नवीन सुविधाओं का लोकार्पण

०० ऑक्सीजन प्लांट कक्ष, सी.सी.रोड, चिकित्सक वाहन, एम्बुलेंस और मुक्तांजलि शव वाहन भी लोकार्पित

रायपुर| राजधानी रायपुर के कालीबाड़ी इलाके में स्थित शासकीय जिला अस्पताल परिसर में आज मरीजों के लिए लगभग एक करोड़ रूपए की अत्यंत महत्वपूर्ण सुविधाओं का लोकार्पण हुआ। समारोह के मुख्य अतिथि रायपुर के लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस ने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि स्वस्थ रहने के लिए स्वच्छ पर्यावरण भी जरूरी है। लोकार्पण समारोह की अध्यक्षता स्वास्थ्य मंत्री श्री अजय चंद्राकर ने की। श्री बैस और श्री चंद्राकर द्वारा अस्पताल में मरीजों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए जिन नवीन सुविधाओं का लोकार्पण किया, उनके लिए राशि जिला जिला खनिज न्यास निधि (डीएमएफ) से दी गई है।
कार्यक्रम में आपात चिकित्सक वाहन और एम्बूलंेस को भी हरी झण्डी दिखाकर लोकार्पित किया गया। आपात चिकित्सक वाहन किसी भी आपात कालीन परिस्थिति में डॉक्टर को तत्काल अस्पताल लाने-ले जाने के लिए दिया गया है। कार्यक्रम में अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट का भी लोकार्पण हुआ। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष श्री देवजी भाई पटेल, रायपुर ग्रामीण के विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा, रायपुर (उत्तर) के विधायक श्री श्रीचंद सुंदरानी, आरंग के विधायक श्री नवीन मारकण्डेय विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे।  मुख्य अतिथि की आसंदी से समारोह में लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस ने अस्पताल में उपलब्ध कराई गई इन नवीन सुविधाओं का उल्लेख करते हुए प्रसन्नता व्यक्त की और उम्मीद जताई कि इनका अधिक से अधिक लाभ जरूरतमंद मरीजों को मिलेगा। उन्होंने अस्पताल में सुविधाओं के विकास के लिए जिला खनिज न्यास निधि के बेहतर उपयोग पर भी खुशी जताई।स्वास्थ्य मंत्री श्री अजय चंद्राकर ने इस अवसर पर कहा कि जिला खनिज न्यास निधि से जो भी विकास कार्य यहां करवाए गए है वो सराहनीय है और इससे आने वाले दिनों में हमारे शहरी स्वास्थ्य सूचकांको में निश्चित ही सुधार परिलक्षित होगा। श्री चंद्राकर ने इन कार्यो के लिए जिला प्रशासन की तारीफ भी की और कहा कि इसी तरह अन्य जगहों पर ही ऐसे कार्य किए जाने चाहिए। कलेक्टर श्री ओ.पी.चौधरी ने कार्यक्रम में बताया कि कालीबाड़ी इलाके में स्थित शासकीय जिला अस्पताल में प्रतिदिन करीब 600 मरीज ओपीडी में आते है। यहां हर माह करीब 250 प्रसव होते है। यहां आने वाले मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मिल सके, इसके लिए जिला खनिज न्यास निधि से आवश्यक उपकरण व संसाधनों को विकसित किया गया है। यहां करीब एक करोड़ की लागत से ऑक्सीजन प्लांट कक्ष की स्थापना, ऑपरेशन थियेटर और चिकित्सालय भवन में एल्यूमिनियम पार्टिशन, सीढ़ी व रैंप की वॉल में टाईल्स, परिसर में डामरीकरण, पार्किंग के लिए शेड, सीसी रोड व वहां पेवर टाईल्स कार्य, रंगीन पेव्हर ब्लाक व नाली निर्माण, डेªन कवर तथा मुख्य द्वार पर काऊ केचर, और कम्पोजिट पेनल का कार्य किया गया है जिसका की आज लोकार्पण हुआ है। इसके साथ ही 24 घण्टे चिकित्सकों की उपस्थिति सुनिश्चित हो सके इसके लिए डीएमएफ से एक वाहन और चालक दिया गया है ताकि इमरजेंसी में ऑन कॉल चिकित्सक तत्काल यहां उपलब्ध हो सके।श्री चौधरी ने बताया कि इसी तरह डीएमएफ से 11 मुक्तांजलि एम्बुलेंस भी लिए गए। जिसे दो एम्स में, दो अम्बेडकर अस्पताल में, एक जिला चिकित्सालय में और आरंग, तिल्दा, अभनपुर, धरसींवा, गोबरा नवापारा व खरोरा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में एक-एक उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने बताया कि जिला खनिज न्यास निधि से पण्डरी जिला चिकित्सालय और राजधानी के 12 शहरी स्वास्थ्य केन्द्रों में भी स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार किया जा रहा है ताकि लोगों को इसका लाभ मिल सके और छोटी मोटी बीमारियों के लिए मरीजों को मेकाहारा और एम्स में न जाना पड़े। श्री चौधरी ने बताया इसी तरह राजधानी रायपुर में 12 करोड़ रूपए की लागत से ऑक्सी रीडिंग जोन भी बनाया जा रहा है ताकि युवाओं को सविल सर्विस सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए उपयुक्त वातावरण मिल सके।इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री नीलेश क्षीरसागर, सिविल सर्जन डॉ. आर.के.तिवारी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. के.एस.शांडिल्य सहित बड़ी संख्या में चिकित्सक, पैरामेडिकल कर्मचारी और स्थानीय नागरिक उपस्थित थे।

 

error: Content is protected !!