मुख्यमंत्री ने स्वीकार तो किया कि भ्रष्ट्राचार हुआ है, चाहे पुराना ही क्यों न हो: कांग्रेस

रायपुर| छत्तीसगढ़ प्रदेश  कांग्रेस कमेटी ने स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर के आय से अधिक संपत्ति के मामले में प्रधानमंत्री कार्यालय से प्राप्त आदेश  का हवाला देते हुये जांच में हील-हवाला करने पर कड़ा प्रतिवाद किया है जिस पर प्रदेश  के मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिह ने यह कहा कि यह मामला पुराना है, दरअसल भ्रष्ट्राचार और आय से अधिक का मामला उनके ही कार्यकाल का देन है, मुख्यमंत्री द्वारा यह कहना इस बात को इंगित करता है कि यह जांच के लिये किसी नये भ्रष्ट्राचार का इंतजार है, मामला पुराना है कहकर उन्होंने स्वीकार तो किया कि उनके कार्यकाल में मंत्री द्वारा आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने एवं काला धन एकत्र करने के जो आरोप लगे है जिस पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी संज्ञान में लेते हुये कडी कार्यवाही करने के निर्देष दिये है उसे एक सिरे से खारिज करना प्रधानमंत्री कार्यालय का भी अपमान है। प्रदेष कांग्रेस प्रवक्ता महेन्द्र छाबडा ने कहा कि  मुख्यमंत्री डाॅ.रमन सिह का यह बयान भ्रष्ट्राचार के संरक्षक के रूप में सामने आया है अपने मंत्री के बचाव में नैतिकता को छोडकर बयानबाजी की जा रही है।प्रधानमंत्री कार्यालय के आदेश पर जांच की प्रक्रिया अभी चल रही है, इस पर मुख्यमंत्री की ऐसी प्रतिक्रिया आना कई संदेहों को जन्म देती है। हम इस बात को पुनः दोहराना चाहते है कि हाईकोर्ट ने इस मामले में वाद प्रस्तुत करने की समय सीमा समाप्त होने के कारण मामले को खारिज किया है। जिसे क्लीन चिट मिलने की बात कही जा रही है जो गलत  है।

error: Content is protected !!