नया रायपुर में निर्माणाधीन आदिम जाति प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान का मंत्री कश्यप ने किया अवलोकन

नया रायपुर में निर्माणाधीन आदिम जाति प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान का मंत्री कश्यप ने किया अवलोकन

रायपुर| आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप ने आज यहां नया रायपुर में पुरखौती मुक्तांगन के निकट निर्माणाधीन आदिम जाति संग्रहालय और आदिम जाति प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान का अवलोकन किया। श्री कश्यप ने बताया कि राज्य सरकार ने इन भवनों के निर्माण हेतु 20 करोड़ से ऊपर की राशि स्वीकृत की है तथा साढ़े बाइस एकड़ भूमि उपलब्ध करायी गई है। श्री  कश्यप ने प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की तारीफ करते हुए कहा उनके मार्गदर्शन में छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के हित एवं विकास से संबंधित अनेक कल्याणकारी कार्य सम्पन्न किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार के प्रथम पंचवर्षीय योजना के निर्माण के समय एस.सी, एस.टी की सामाजिक आर्थिक स्थिति, रीति रिवाज, रहन-सहन तथा अन्य सांस्कृतिक तथ्यों के अभाव में इन वर्गाें के विकास हेतु योजना निर्माण में कठिनाइयां आ रही थी। इसके फलस्वरूप भारत सरकार द्वारा सन् 1954 में अविभाजित मध्यप्रदेश सरकार को केन्द्र प्रवर्तित योजना अंतर्गत आदिम जाति अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान स्थापित करने के निर्देश दिए थे। छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के उपरांत राज्य में आदिवासियों की जनसंख्या को देखते हुए भारत सरकार जनजातीय कार्य मंत्रालय की अनुशंसा पर हमारे प्रदेश में इस संस्थान की स्थापना की गई थी।
श्री कश्यप ने बताया कि संस्थान द्वारा मुख्यतः जनजातियों से संबंधित सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक अध्ययन सर्वेक्षण, जनजातियों में व्याप्त समस्याओं का अध्ययन कर उनके निराकरण हेतु  शासन को सुझाव दिया जाता है। राष्ट्रीय स्तर की कार्यशाला एवं संगोष्ठियों का आयोजन तथा जनजातियों से संबंधित विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रम एवं जाति प्रमाण पत्रों की जांच आदि की जाती है। आदिम जाति अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान का निर्माण 5365 वर्ग क्षेत्रफल में होगा। इसके नीचला तल में मिटिंग हाल, संचालक कक्ष, तीन प्रशिक्षण कक्ष, एक हाल रिसर्च स्कालर के लिए, आठ कक्ष अधिकारियों के लिए, वहीं प्रथम तल में एक बड़ा मिटिंग हाल, एक बड़ा पुस्तकालय, एक प्रशिक्षण कक्ष, एक रिसर्च स्कालर के लिए कक्ष, एक कम्प्यूटर लैब, वीडियोग्राफी फोटोग्राफी के लिए कक्ष तथा द्वितीय तल में विभिन्न कक्षों का निर्माण किया जा रहा है। आदिम जाति संग्रहालय का निर्माण भी 5365 स्केवर मीटर में होगा। यह भवन आदिम जाति अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान से 16 मीटर की दूरी पर बन रहा है। इसके नीचले तल पर इंडोर आडियोटोरियम, म्यूजियम स्टोर कक्ष, कार्यशाला कक्ष तथा दो विशेष कक्ष जहां संग्रहित वस्तुएं रखी जाएगी। वहीं प्रथम एवं द्वितीय तल पर आदिम जाति से संबंधित सांस्कृतिक धरोहरों को रखी जाएगी, जिसे पर्यटक देख सकेंगे। आदिम जाति मंत्री श्री केदार कश्यप ने मौके पर उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित किया कि जुलाई 2018 तक निर्माण कार्य पूरे गुणवत्ता के साथ पूरे कर लेें। इस अवसर पर आदिम जाति विभाग के संचालक श्री जी.आर. चुरेन्द्र, कार्यपालन अभियंता श्री पी.के. अग्रवाल, एस.डी.ओ. पीडब्ल्यूडी श्री प्रभात सक्सेना सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

 

error: Content is protected !!