वेलकम डिसलरी के मजदुरो की सुरक्षा भगवान भरोषे, प्रबंधन का रवैया गैरजिम्मेदाराना

०० सप्ताह भर पहले दो महिलाएं पट्टे में करेंट आने से हुई घायल

०० श्रम विभाग की अनदेखी से मजदुरो की जान खतरे में

करगीरोड कोटा| वेलकम डिस्टलरीज प्रा लिमिटेड शराब प्लांट में किडे युक्त शराब का मामला सामनें आने के बाद वहां की पडताल में एक और गंभीर मामला सामने आया है जो वहां पर काम कर रहे सैकडो श्रमिको की की सुरछा से सिधा जुडा हुआ है मजदुरो की सुरछा के कितने पुख्ता इंतजामात प्रबंधन ने किये है उसकी पोल खोल कर रख दी है साथ साथ श्रम विभाग की अनदेखी उजागर हुई है

पिछले दिनो कोटा के छेरकाबांधा स्थित वेलकम फेक्ट्री में बनने वाली शराब की सील पैक शीशी के अंदर किडे मिलने से हडकंप मच गया था क्योकि ये मामला सिधा लोगो के स्वास्थ से जुडा हुआ था उसी तरह इस फेक्ट्री में काम कर रहे मजदुरो की सुरछा पे भी अब सवाल उठ रहे है जो काफी गंभीर विषय है सप्ताह भर पूर्व बाटलिंग पट्टे में वायर कटे होने के कारण करेंट आने लगा जिससे बाटलिंग पट्टे में काम कर रही दो महिलाएं करेंट की चपेट में आने से घायल हो गई थी प्रबंधन ने मामले को शांत करा कर उन्हे उपचार के लिए कोटा सामुदायिक स्वास्थ केंद्र भेज दिया था उसके बाद प्रबंधन और ठेकेदार ने घायलो की कोई सुध नही ली वेलकम प्रबंधन ने मजदुरो की सुरछा को तार तार कर दिया है|

ईलाज की नहीं है उचित व्यवस्था :-  यहां झोला छाप डाक्टरो के भरोषे होता है इलाज सही समय पर सही इलाज नही मिल पाने से मजदुरो को काफी परेशानी होती है इतने बडे प्लांट में सुरछा और चिकित्सा सुविधा के नाम पर सिर्फ प्रबंधन की बडी बडी बातें है| दो माह पहले बायलर फटने से  हुआ था गंभीर हादसा हुआ था जिसमें पांच श्रमिक बुरी तरह झुलस गये थे जिनका कोटा और बिलासपुर में उपचार के दौरान तीन की मौत हो गई थी फिर भी प्रबंधन नही चेता और वहां सुरछा के पुख्ता इंतजामात नही होने से फिर एक बडा हादसा होते होते टला प्रबंधन ने वहां कार्यरत मजदुरो को ग्लब्स जुते हेलमेट मास्क चश्मा कुछ भी नही दिया है

ठेकेदार का मनमानी रवैया:-  ठेकेदार भी नही है अपने लेबरो के प्रति जवाबदार बिलासपुर के ठेकेदार जिलानी खान अपना ठेका लेकर बाटलिंग और पेकेजिंग कराता है लेकिन उसके अंडर में काम कर रहे मदजुरो भी सुरछित नही है अगर काम करते वक्त कोई चोटिल हो जाए तो उसे अपने स्वंय से इलाज पानी कराना पडता है ठेकेदार किसी प्रकार से मदद नही करता है वहां काम करने वाले बिहारी लाल जो काफी उम्रदराज नजर आ रहे थे उसने बताया कि शराब की पेटी को गाडी में लोडिंग करते वक्त हाथो में चोट लगी थी लेकिन ठेकेदार इलाज भी नही कराया और एक रूपये भी इलाज के लिए नही दिया स्वयं कोटा जाकर इलाज कराना पडा| करेंट लगने सें घायल हुई संतोषी ध्रुव ने बताया की हम फेक्ट्री में काम कर रहे थे अचानक पट्टे में करेंट आ गया जिससे मेरे हाथो में चोट आई और मेरी साथ काम कर रही भूलिन बाई के दाहिने पैर और हाथ में झटका लगा और जिसके बाद कोटा अस्पताल में इलाज कराए और खाने दवाई के लिए सौ रूपये ठेकेदार ने दिया उसके बाद ठेकेदार और प्रबंधन नें दुबारा नही पुछा यहां सुरछा भी ठिक नही और हमे सुरछा के लिए कुछ नही दिया जाता ।

वेलकम डिसलरी में नहीं है मजदूरो की सुरक्षा का इंतजाम:- वेलकम प्रबंधन के मैनेजर एम एम श्रीवास्तव ने सुरछा व्यवस्था के बारे में प्रबंघन का पछ लिया और मजदुरो को ग्लब्स जूते सेफ्टी किट उपलब्धा की बात कही लेकिन मजदुर बिना सेफ्टी किट के प्लांट में काम करते नजर आए।बहरहाल वेलकम डिस्टलरीज प्लांट में मजदुरो की सुरछा पर प्रबंधन का लापरवाही रवैय्या नजर आता है पहले भी कई हादसे हो चुके हा फिर भी ना तो सजग है और ना हि गंभीर है मजदुरो की तरफ श्रम विभाग को  ध्यान देने की नितांत आवश्यक्ता है

 

error: Content is protected !!